सरदार पटेल के जरिए CM रुपाणी का सोनिया-राहुल पर हमला

इसी को लेकर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने सोनिया और राहुल पर निशाना साधा है। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और सांसद राहुल गांधी ने अभी तक सरदार पटेल को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि नहीं दी। ये आरोप गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने लगाया।

Written by: October 31, 2019 3:24 pm

नई दिल्ली। भारत के लौहपुरुष और एकता के प्रतिक सरदार वल्लभ भाई पटेल की आज जयंती है और पूरा देश उनको नमन कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल की जयंती पर उनको गुजरात में स्थित उनकी प्रतिमा में जा कर श्रद्धांजली दी और इसके साथ ही गृहमंत्री अमित शाह ने भी सरदार पटेल को नमन किया। लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी की तरफ से अभी तक सरदार पटेल को लेकर किसी प्रकार की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

sardar vallabhbhai patel

इसी को लेकर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने सोनिया और राहुल पर निशाना साधा है। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और सांसद राहुल गांधी ने अभी तक सरदार पटेल को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि नहीं दी। ये आरोप गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने लगाया।

Gujrat CM vijay rupani

सीएम रुपाणी ने कहा कि जब पूरा देश महान सरदार पटेल को उनकी जयंती पर नमन कर रहा है, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने सरदार पटेल को श्रद्धांजलि भी नहीं दी। सरदार पटेल जैसे राष्ट्रीय चिह्न के लिए ऐसी अवमानना विश्वास से परे है।

लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की विरासत को लेकर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस में नुराकुश्ती जारी है। विजय रुपाणी से पहले कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने सरदार पटेल को कांग्रेस का निष्ठावान नेता बताया है। इसके साथ ही प्रियंका ने बीजेपी पर सरदार पटेल को अपनाने की कोशिश का आरोप लगाया।

प्रियंका ने कहा, ‘सरदार पटेल कांग्रेस के निष्ठावान नेता थे जो कांग्रेस की विचारधारा के प्रति समर्पित थे। वह जवाहरलाल नेहरू के करीबी साथी थे और आरएसएस के सख्त खिलाफ थे। आज बीजेपी द्वारा उन्हें अपनाने की कोशिशें करते हुए और उन्हें श्रद्धांजलि देते देख के बहुत खुशी होती है, क्योंकि बीजेपी के इस एक्शन से दो चीजें स्पष्ट होती हैं, पहला- उनका अपना कोई स्वतंत्रता सेनानी महापुरुष नहीं है। तकरीबन सभी कांग्रेस से जुड़े थे। दूसरा- सरदार पटेल जैसे महापुरुष को एक न एक दिन उनके शत्रुओं को भी नमन करना पड़ता है।’