‘किसान आंदोलन को प्रायोजित कर रही है कांग्रेस’: पंजाब के विधायक ने ही पार्टी की खोली पोल (वीडियो)

Congress sponsoring farmers’ movement: केंद्र सरकार द्वारा लागू किए कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली के बार्डर पर आंदोलन किया जा रहा है। पिछले कुछ महीनों से किसान कानून को रद्द करने की मांग को लेकर दिल्ली के बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं।

Written by: September 14, 2021 3:28 pm
raj kumar verka

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है। एक तरफ जहां सरकार कानूनों वापस लेना नहीं चाहती, वहीं किसान भी अपनी मांग को लेकर अड़े हुए है। वहीं दूसरी ओर किसान आंदोलन के जरिए कांग्रेस, अकाली दल समेत कई विपक्षी पार्टियां  सियासत करने में जुटी हुई है। इतना ही नहीं विपक्ष किसान आंदोलन के जरिए लगातार सरकार पर हमला बोल रही है। किसानों आंदोलन को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बदले सुर नजर आ रहे है। सीएम अमरिंदर ने किसानों से अपील करते हुए कहा कि, उन्हें आंदोलन ही करना है तो पंजाब की बजाय दिल्ली और हरियाणा में जाकर करें। वहीं दूसरी अब अमृतसर से कांग्रेस विधायक राज कुमार वेरका ने किसानों आंदोलन को लेकर बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि, ये आंदोलन पंजाब स्पांसर है। ये पंजाब के किसानों का आंदोलन है। ये सभी पार्टी द्वारा स्पांसर है।

दरअसल एक न्यूज़ चैनल से बातचीत करते हुए कांग्रेस विधायक राजकुमार वरका ने कहा कि हरियाणा के किसानों द्वारा दिल्ली के बॉर्डर पर किया जा रहा आंदोलन सभी विपक्षी पार्टियों द्वारा प्रायोजित करवाया जा रहा आंदोलन है, यह बीजेपी के खिलाफ किया जा रहा आंदोलन है। साथ ही उन्होंने कहा कि इसमें क्या शक है कि कांग्रेस किसानों के साथ है, तो हमारी साजिश है इसके साथ, इसमें क्या परेशानी है। मैं खुलकर कहता हूं हम किसानों के साथ है और इस संघर्ष के साथ कांग्रेस हमेशा खड़ी है।

वहीं कांग्रेस विधायक के इस खुलासे पर भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने पंजाब की कांग्रेस सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि, कांग्रेस के विधायक राज कुमार वेरका ने खुद कबूला कि ये आंदोलन (किसान आंदोलन) हमारी साजिश है, ये हम पहले से कह रहे थे। पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब में प्रदर्शन मत करो, हरियाणा, दिल्ली, UP जाओ। ये कैसा आंदोलन है जिसको दिशा कैप्टन अमरिंदर सिंह दे रहे हैं।

बता दें कि पिछले साल 25 नवंबर से विभिन्न राज्यों के किसान दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर, दिल्ली-उत्तर प्रदेश के गाजीपुर बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं और तीन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर अपना डेरा डाले हुए हैं। वहीं अब इस आंदोलन को लेकर यह बड़ा खुलासा सामने आया है?

Support Newsroompost
Support Newsroompost