चंद्रबाबू नायडू के मंच पर दिखा पीएम मोदी के खिलाफ विवादित पोस्टर

दिल्ली के आंध्र प्रदेश भवन में आज मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने और अन्य वादों को पूरा न करने की वजह से केंद्र सरकार के खिलाफ एक दिन की भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं। उनके इस धरने को विपक्षी दलों का भी साथ मिल रहा है। इसी बीच नायडू के धरनास्थल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक विवादित पोस्टर दिखाई दिया है।

Avatar Written by: February 11, 2019 11:58 am

नई दिल्ली। दिल्ली के आंध्र प्रदेश भवन में आज मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने और अन्य वादों को पूरा न करने की वजह से केंद्र सरकार के खिलाफ एक दिन की भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं। उनके इस धरने को विपक्षी दलों का भी साथ मिल रहा है। इसी बीच नायडू के धरनास्थल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक विवादित पोस्टर दिखाई दिया है। हालांकि पार्टी ने खुद को इससे अलग कर लिया है।

TDP Poster

धरना स्थल पर चिपके एक पोस्टर में पीएम के खिलाफ लिखा है- ‘जिसके हाथ में चाय का जूठा कप देना था, उसके हाथ में जनता ने देश दे दिया।’ इस पोस्टर पर विवाद होना तो तय है। लेकिन उससे पहले पार्टी के सांसद जयदेव गल्ला ने इससे पल्ला झाड़ लिया है। उनका कहना है कि हम इसका समर्थन नहीं करते हैं। यह सही नहीं है और ऐसा नहीं होना चाहिए। इसे हमारी पार्टी के लोगों ने नहीं लगाया है।

वहीं इस पोस्टर पर पलटवार करते हुए भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट किया कि आंध्र भवन में जहां पर चंद्रबाबू नायडू धरना दे रहे हैं, वहां पर पोस्टर लगे हैं कि ‘जिसके हाथ में चाय का जूठा कप देना था, उसके हाथ में जनता ने देश दे दिया’। मालवीय ने लिखा कि विपक्षी पार्टियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बैकग्राउंड को लेकर हमेशा निशाना साधती हैं। उन्होंने लिखा कि क्या पिछड़ी जाति का होना या गरीब होना अभिशाप है?

वहीं धरने पर बैठे नायडू ने भाजपा नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर हमला करते हुए पीएम मोदी पर आरोप लगाया कि राज्य को विशेष दर्जा ना देकर उन्होंने ‘राज धर्म’ का पालन नहीं किया। केंद्र से राज्य को विशेष दर्जा देने और 2014 में इसके विभाजन से पहले किए सभी वादों को पूरा करने की मांग को लेकर वह एक दिवसीय अनशन पर बैठे हैं।