दिल्ली अग्निकांड: राजेश शुक्ला हैं ‘रीयल हीरो’, 11 लोगों की बचाई जिंदगी

अपनी जान की परवाह किए बगैर वह देवदूत बनकर लोगों को आग से घिरी बिल्डिंग से बाहर निकालने लगे। राहत कार्य के दौरान उनके पैर में चोट भी आ गई और एलएनजेपी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

Written by: December 8, 2019 5:53 pm

नई दिल्ली। दिल्ली में रविवार सुबह हुए भीषण अग्निकांड में 43 लोगों को मौत हो गई और अब खबर आई है कि, जिस इमारत में आग लगी थी उसका मालिक रिहान को हिरासत ले लिया गया है। इसके साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीड़ित परिवारों को 10 लाख देने का ऐलान किया है। तो वहीं भाजपा की तरफ से 5 लाख रुपये और प्रधानमंत्री राहत कोष की तरफ से 2-2 लाख देने का प्रस्ताव सामने आया है। लेकिन इस अग्निकांड में एक शख्स हैं जिन्होंने असली हीरो का किरदार निभाया और 11 लोगों की जान बचाई। वो हैं राजेश शुक्ला।

rajesh shukla

अपनी जान की परवाह किए बगैर वह देवदूत बनकर लोगों को आग से घिरी बिल्डिंग से बाहर निकालने लगे। राहत कार्य के दौरान उनके पैर में चोट भी आ गई और एलएनजेपी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।


उनकी बहादुरी की दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी तारीफ की है और अस्पताल में उनसे मुलाकात की। इस दौरान दिल्ली सरकार के मंत्री इमरान हुसैन भी मौजूद थे।


जैन ने ट्वीट किया, ‘दमकलकर्मी राजेश शुक्ला असली हीरो हैं। वह पहले फायरमैन हैं जो इमारत में घुसे और 11 जिंदगियां बचाईं। उन्होंने तब तक अपना काम जारी रखा जब तक उनकी खुद की हड्डियां चोटिल नहीं हो गईं। मैं इस बहादुर हीरो को सलाम करता हूं।’ उन्होंने राजेश शुक्ला से अपनी मुलाकात की तस्वीर भी ट्वीट की है।

rajesh shukla

बताया जा रहा है कि जब आग लगी तो कई मजदूर गहरी नींद में थे। इमारत में हवा आने-जाने की उचित व्यवस्था नहीं थी इसलिए कई लोगों की जान दम घुटने से चली गई। सभी झुलसे हुए लोगों और मृतकों को आरएमएल अस्पताल, एलएनजेपी और हिंदू राव अस्पताल ले जाया गया, जहां लोग अपने रिश्तेदारों को ढूंढने में लगे हैं।