तीस हजारी मामलाः हाईकोर्ट ने गृह मंत्रालय और दिल्ली पुलिस की याचिकाएं खारिज की

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में 2 नवंबर को वकीलों और पुलिसवालों के बीच हुई हिंसक झड़प ने बुधवार को उग्र रूप अख्तियार कर लिया है। मंगलवार को जहां हजारों पुलिसवालों ने दिल्ली की सड़कों पर प्रदर्शन किया, वहीं 2 नवंबर के बाद से चल रहे वकीलों के प्रदर्शन ने बुधवार यानि के आज उग्र रूप ले लिया है।

Avatar Written by: November 6, 2019 5:04 pm

नई दिल्ली। दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में 2 नवंबर को वकीलों और पुलिसवालों के बीच हुई हिंसक झड़प ने बुधवार को उग्र रूप अख्तियार कर लिया है। मंगलवार को जहां हजारों पुलिसवालों ने दिल्ली की सड़कों पर प्रदर्शन किया, वहीं 2 नवंबर के बाद से चल रहे वकीलों के प्रदर्शन ने बुधवार यानि के आज उग्र रूप ले लिया है।

delhi high court

वकील आज दिल्ली की तीन बड़ी अदालतों के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं। छह में से तीन अदालतों(पटियाला हाउस कोर्ट, रोहिणी कोर्ट, साकेत कोर्ट) का कामकाज पूरी तरह ठप हो चुका है। यही नहीं वकीलों ने पटियाला हाउस कोर्ट का दरवाजा तक बंद कर रखा है। इसी बीच दिल्ली हाई कोर्ट ने गृह मंत्रालय और दिल्ली पुलिस की याचिका खारिज कर दी है।

delhi high court

हाईकोर्ट ने कहा कि वह 3 नवंबर के फैसले पर पुनर्विचार नही करेगा। दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा कि तीन नवम्बर को दिए उसके आदेश को स्पष्ट करने की जरूरत नहीं है, वह अपने आप में स्पष्ट है। उच्च न्यायालय ने केन्द्र की उस याचिका का भी निपटारा कर दिया, जिसमें उसने 3 नवम्बर को दिए गए उसके आदेश का स्पष्टीकरण मांगते हुए उस पर पुन: विचार की मांग की थी ।

lawyers protest

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस और गृह मंत्रालय द्वारा दाखिल पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया है। साथ में हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस की उस याचिका को भी खारिज कर दिया है, जिसमें साकेत कोर्ट में हुए मामले में शामिल वकीलों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की इजाजत मांगी गई थी।

बार काउंसिल ऑफ इंडिया की मांग- पुलिसवालों की मांग हो खारिज

tis hazari delhi police protest
मंगलवार को दिल्ली में हुए पुलिसवालों के प्रदर्शन के तरीके को गलत बताते हुए बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने उनकी मांगे खारिज करने की बात कही है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मनन मिश्रा का कहना है कि पुलिसवालों के विरोध का तरीका ठीक नहीं था, इसलिए उनकी सभी मांगें खारिज की जानी चाहिए।

ऐसे शुरु हुआ विवाद

उत्तरी दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट परिसर में शनिवार(2 नवंबर) दोपहर बाद लॉकअप के बाहर कार पार्क करने पर वकीलों और पुलिस के बीच भारी बवाल हो गया। गुस्साए वकीलों ने पुलिसकर्मियों को घेरकर उनके साथ बदसलूकी शुरू कर दी।

tis hazari courtवकीलों की भीड़ बढ़ती देख पुलिसकर्मियों ने हवा में गोली चलाई, जो एक वकील को लग गई। इससे गुस्साए वकीलों ने पुलिसकर्मियों को पीटने के साथ ही कोर्ट परिसर में खड़ी एक जिप्सी व 13 बाइकों सहित 17 वाहनों को आग के हवाले कर दिया।

delhi police tis hazari
पूरे मामले में एक एडीसीपी, दो एसएचओ सहित 20 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। उधर, वकीलों ने अपने आठ साथियों के घायल होने की बात कही है। देर शाम तक कोर्ट परिसर में तनाव का माहौल था।

 

Support Newsroompost
Support Newsroompost