वंदे मातरम को राष्ट्रगान का दर्जा देने वाली याचिका को दिल्ली हाईकोर्ट ने किया खारिज

पिछले दिनों कोर्ट में याचिका दायर कर ये मांग की गई थी कि वंदे मातरम को भी राष्ट्रगान का दर्जा मिले। दिल्ली हाईकोर्ट ने इस याचिका को खारिज कर दिया है। इस याचिका में कहा गया था कि वंदे मातरम को अभी तक जन-गण-मन के समान दर्जा नहीं मिला। 

Written by: July 26, 2019 12:26 pm

नई दिल्ली। पिछले दिनों कोर्ट में याचिका दायर कर ये मांग की गई थी कि वंदे मातरम को भी राष्ट्रगान का दर्जा मिले। दिल्ली हाईकोर्ट ने इस याचिका को खारिज कर दिया है। इस याचिका में कहा गया था कि वंदे मातरम को अभी तक जन-गण-मन के समान दर्जा नहीं मिला।

delhi highcourt

याचिका लगाने वाले वकील अश्विनी उपाध्याय बीजेपी से जुड़े हुए है। याचिका में उन्होंने मांग की है कि सभी स्कूलों में वंद मातरम को राष्ट्रगान के तौर पर बजाया जाना चाहिए। साथ ही इसको लेकर नेशनल पॉलिसी बनाने की मांग की गई है।

delhi highcourt 1

वंदे मातरम की अनिवार्यता को लेकर कुछ मजहबी संगठन विरोध कर चुके हैं। उनका कहना है कि वंदे मातरम में देश को माता मानकर उनकी स्तुति की गई है, जिसका उनके मजहब में इजाजत नहीं है। इसलिए इसे किसी फरमान की तरह नहीं थोपा जा सकता।

delhi highcourt 2

इससे पहले 2017 में भी सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि संविधान के अनुच्छेद 51(अ) यानी मौलिक कर्तव्य के तहत सिर्फ जन-गण-मन और राष्ट्रीय ध्वज का उल्लेख है, इसलिए वंदे मातरम् को अनिवार्य नहीं किया जा सकता है। कोर्ट ने यह टिप्पणी अश्विनी उपाध्याय की ही याचिका पर सुनवाई के दौरान की थी।