दिल्ली हिंसाः अरविंद केजरीवाल का ऐलान, मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख मुआवजा, पीड़ितों का होगा मुफ्त इलाज

उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून को लेकर हुए हिंसा में 35 लोगों की मौत के बाद दिल्लील के मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल ने परिजनों के लिए मुआवजे की घोषणा की है।

Avatar Written by: February 27, 2020 5:20 pm

नई दिल्ली। उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून को लेकर हुए हिंसा में 35 लोगों की मौत के बाद दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने परिजनों के लिए मुआवजे की घोषणा की है। गुरुवार को  दिल्ली हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कांफ्रेंस की।

Arvind-kejriwal

उन्होंने कहा कि हिंसा में हिंदू और मुसलमान सबको नुकसान हुआ है। इस दौरान केजरीवाल ने मृतक के परिवार को 10 लाख का मुआवजा देने का भी ऐलान किया। उन्होंने कहा कि अस्पताल में घायलों का इलाज मुफ्त में किया जा रहा है। घायलों पर फरिश्ते योजना लागू होगी। नाबालिग की मौत पर परिजनों को 5-5 लाख रुपये दिया जाएगा।

सीएम केजरीवाल ने आगे कहा कि मामूली रूप से घायलों को 20-20 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। हिंसा में जिनके रिक्शे को नुकसान हुआ उन्हें 25 हजार, ई रिक्शा के लिए 50 हजार, जिनका घर जला है उन्हें 5 लाख दिया जाएगा। इसके अलावा दुकान जलने पर 5 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।

arvind kejriwal

दिल्ली के सीएम ने कहा कि जिनके पशु जल गये उन्हें पांच हजार प्रति पशु दिया जाएगा। जिनके आधार कार्ड, वोटर कार्ड जले हैं उनके नए दस्तावेज बनाए जाएंगे। इसके लिए कैंप लगेंगे। सीएम ने कहा कि सरकार दंगा पीड़ितों को फ्री में खाना पहुंचाएगी। हेल्पलाइन नंबर जारी किए जा रहे हैं। मोहल्लों में शांति और अमन कमेटियां सक्रिय होंगी।

kejriwal

इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि कल से हिंसा की घटनाएं कम हुई हैं। इसके अलावा बताया कि फरिश्ते योजना को दंगा प्रभावित लोगों के लिए भी प्रभावी कर दिया गया है। इससे कई पीड़ित परिवार को थोड़ी राहत मिलेगी। इससे प्राइवेट अस्पतालों में भी इलाज करा रहे हैं।

खाना वितरण का काम हुआ शुरू

कर्फ्यू वाले इलाकों में खाना वितरण का काम शुरू कर दिया गया है। आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन के बारे में पूछे जाने पर कहा कि दंगों में जो भी दोषी है उसे सख्त-से-सख्त सजा मिले। अगर हमारी पार्टी का है तो दोगुनी सजा दो, मगर राजनीति बंद करो। राजनीति मत करो, लोगों की जिंदगी से मत खेलो।