नोटबंदी के 3 साल: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कुछ इस तरह निकाला मोदी सरकार पर अपना गुस्सा

8 नवंबर 2016, ये वो तारीख है जिस दिन देश में एक बहुत बड़ा बदलाव आया था। पीएम मोदी ने काले धन का सच सामने लाने के लिए नोटबंदी का फैसला लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को ऐलान कर बताया कि अब 500 और 1000 के नोट का प्रचलन बंद हो जाएगा।

Written by: November 8, 2019 6:10 pm

नई दिल्ली। 8 नवंबर 2016, ये वो तारीख है जिस दिन देश में एक बहुत बड़ा बदलाव आया था। पीएम मोदी ने काले धन का सच सामने लाने के लिए नोटबंदी का फैसला लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को ऐलान कर बताया कि अब 500 और 1000 के नोट का प्रचलन बंद हो जाएगा। इसके बाद सभी लोगों का काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा था।

congress protest on demonetization

आज नोटबंदी को भले ही तीन साल हो गए हैं। लेकिन इससे जुड़ी नाराजगी कहीं न कहीं लोगों के बीच आज भी है।  बता दें, मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी के तीन साल पूरे होने पर उसकी आलोचना करते हुए शुक्रवार को युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने रिजर्व बैंक के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया।

प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारी नारे लगा रहे थे और उन्होंने हाथों में तख्तियां और भारतीय युवा कांग्रेस (IYC) के झंडे ले रखे थे। दिल्ली पुलिस के कर्मचारियों ने इन्हें संसद मार्ग पर आरबीआई की इमारत से कुछ मीटर पहले ही रोक दिया। युवा कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी ने कहा कि ये प्रदर्शन मोदी सरकार से नोटबंदी को लागू करने के लिये माफी मंगवाने के लिए किया गया।

congress protest notebandi

नारेबाजी कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और साथ ही नोटबंदी के फैसले के लेकर कई सवाल भी उठाए तो वहीं पीएमसी के मुद्दे पर भी घेरने की कोशिश की। प्रदर्शन के दौरान यूथ कांग्रेस का कार्यकर्ता चलन से बाहर हो चुके नोटों को गले में भी पहने हुए दिखे। प्रदर्शनकारियों ने नोटबंदी और बैंकिग व्यवस्था को लेकर मोदी सरकार को बूरी तरह फेल बताया।

PM Modi RCEP

गौरतलब है कि साल 2016 में 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता को संबोधित करते हुए 500 और 1000 के नोटों को बंद किए जाने का ऐलान किया था। बता दें कि भारत सरकार के नोटबंदी के इस फैसले को लेकर विपक्ष ने जमकर हमला बोला था। इस दौरान एटीएम और बैंकों के बाहर लंबी कतारें देखने को मिली थीं। नोटबंदी के बाद सरकार नए नोटों को चलन में लाई जिसमें 50,100, 200, 500 और 2000 के नोट शामिल थे।