Uttar Pradesh: बदायूं के काजी के जनाजे में उड़ी कोरोना नियमों की धज्जियां, अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज

Uttar Pradesh: काजी-ए-जिला सालिमुल कादरी के इंतकाल के बाद उनके जनाने में उनके चाहने वालों व मुरीदों की भारी भीड़ उमड़ी। मुरीदों की भीड़ को देख पुलिस व प्रशासन सामाजिक दूरी बनाये रखने की कोशिश की, लेकिन मुरीदों की भीड़ के आगे सब बेबस नजर आये।

Avatar Written by: May 10, 2021 8:00 pm
Badaun UP

बदायूं/यूपी। बदायूं में जिला काजी के जनाजे में हजारों की संख्या में जुटे भीड़ ने कोरोना की पूरी गाइडलाइन को ताक पर रख दिया। ना कोई सोशल डिस्टेंसिंग, ना मास्क और ना ही महामारी की परवाह। ऐसे में जिला काजी के जनाजे में उमड़ी भीड़ को देखते बदायूं शहर कोतवाली पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। देर रात एसएसपी संकल्प शर्मा ने बताया कि इस भीड़ जुटने पर अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। बता दें कि हुजूर साहिब-ए-सज्जादा खानकाह-ए-कादरिया शेख अब्दुल हमीद मुहम्मद सालिमुल कादरी बदायूंनी का रविवार तड़के इंतकाल हो गया। दिन निकलने के साथ थी शहर के मोहल्ला सोथा स्थित उनके आवास मदरसा आलिया कादरिया में उनके अकीदतमंदों और मुरीदों का हुजूम जुटने लगा। शहर समेत आसपास के जिलों और दूरदराज से भी लोगों के आने का सिलसिला जारी है। उनके मुरिदिनों में हर धर्म के लोग शामिल हैं। पूर्वाह्न दरगाह कादरिया में तदफीन हुआ। जनाजे में भारी भीड़ उमड़ी। शनिवार को उनके प्रवक्ता का निधन हो गया था।

Badaun UP

काजी-ए-जिला सालिमुल कादरी के इंतकाल के बाद उनके जनाने में उनके चाहने वालों व मुरीदों की भारी भीड़ उमड़ी। मुरीदों की भीड़ को देख पुलिस व प्रशासन सामाजिक दूरी बनाये रखने की कोशिश की, लेकिन मुरीदों की भीड़ के आगे सब बेबस नजर आये। जिला काजी बड़े धर्मगुरु थे, इसके चलते जिन्होंने भी उनके इंतकाल की खबर सुनी, सब उनके अंतिम दर्शन के उमड़ पड़े। परिवार के व जिम्मेदार लोग लगातार यहां पहुंचे लोगों से लगातार सामाजिक दूरी बनाये रखने का एनाउंस करते रहे।


बताया जाता है कि जिला काजी का स्वास्थ अरसे से खराब चल रहा था। रविवार तड़के 03:41 बजे उन्होंने शरीर छोड़ दिया। देखते ही देखते सोशल मीडिया पर उनके इंतकाल से जुड़ी खबरें वायरल हुई तो हर तबका गमगीन हो गया। लोग मदरसे पर उनके दीदार को पहुंचने लगे। देश से ही नहीं विदेश से भी शोक संवेदना व्यक्त की जाने लगी। मदरसा प्रबंधन कोविड गाइड लाइन का पालन कराते हुए लोगों को उनका दीदार कराया। इसके बाद दरगाह कादरिया में तदफीन किये गये। पूर्व मंत्री आबिद रजा हजरत के बेटे हजरत अतीफ मियां कादरी व उनके परिजनों से मिलने सुबह 6 बजे पहुंचे। रजा ने अफसोस जाहिर करते हुए कहा हजरत जिंदा वली थे। धार्मिक क्षेत्र में हजरत सालिम मियां साहब ने बदायूं की पूरे देश में अलग पहचान बनाई थी। हजरत बदायूं के लोगों के दिलों में हमेशा जिंदा रहेंगे। उनकी कमी पूरी जिंदगी रहेगी।


काजी ए जिला के निधन पर पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव ने शोक संवेदना व्यक्त की। कहा, हजरत साहब के निधन से बदायूं को अपूर्णीय क्षति हुयी है। उनका हाथ बदायूं की आवाम पर हमेशा बना रहता था। उनके पास कभी भी कोई जाकर आसानी से मिल लेता था। हजरत साहब ने सबकी परेशानियों को सुनकर उनका निदान किया। पूर्व सांसद के प्रतिनिधि अवधेश यादव, यासीन गद्दी, फहीमउद्दीन, मीडिया प्रभारी प्रभात अग्रवाल, फैजान आजाद, सोहेल सिद्दीकी, स्वाले चौधरी, सलीम अहमद, हारून खां आदि उनके जनाजे में शिरकत करने पहुंचे व शोक संवेदना व्यक्त कीं। पूर्व विधायक हाजी मुस्लिम खां,अवनीश यादव आदि ने भी शोक संवेदना जतायी। इनके अलावा बदायूं क्लब के सचिव डॉ. अक्षत अशेष, शाह अल्वी एसोसिएशन के प्रदेश यूथ अध्यक्ष मोहम्मद शीराज अल्वी आदि ने शोक जताया।

Support Newsroompost
Support Newsroompost