अब सपा के पोस्टर पर होंगे डॉ अंबेडकर, माया के वोट बैंक में सेंध की तैयारी

यूपी में समाजवादी पार्टी अब नई राह पकड़ती नजर आ रही है। वोट की खातिर सपा की ओर से अब दलितों को लुभाने की कोशिश शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी पहली बार बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का परिनिर्वाण दिवस बड़े पैमाने पर मनाएगी।

Written by: November 30, 2019 6:27 pm

नई दिल्ली। यूपी में समाजवादी पार्टी अब नई राह पकड़ती नजर आ रही है। वोट की खातिर सपा की ओर से अब दलितों को लुभाने की कोशिश शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी पहली बार बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का परिनिर्वाण दिवस बड़े पैमाने पर मनाएगी। बाबा साहब को याद करने के लिए छह दिसंबर को जिलों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित होंगे।

akhilesh mayawati

यह निर्देश किसी और का नहीं बल्कि खुद सपा प्रमुख अखिलेश यादव का है। समाजवादी पार्टी में सर्वोच्च स्तर से दलितों को संदेश देने की कवायद की जा रही है।  अखिलेश यादव ने ने निर्देश जारी करते हुए कहा कि जिलों में छह दिसंबर को भारत के संविधान निर्माता व दलितों के मसीहा डॉ.आंबडेकर का परिनिर्वाण दिवस अनिवार्य रूप से मनाया जाए। इस मौके पर समाज निर्माण में उनकी भूमिका और आदर्शों पर चर्चा की जाए।

Dr. Bhimrao Ambedkar

बाबासाहब आंबेडकर अब सपा के पोस्टर बैनर पर भी दिखाई देंगे। अभी तक इसमें  डॉ राम मनोहर लोहिया  और जेपी सरीखे नेता दिखाई देते थे। समाजवादी पार्टी के अधिकृत होर्डिग्स में भी बदलाव किया है। डॉ. राममनोहर लोहिया के साथ में बाबा साहेब के चित्र सभी होर्डिंग्स व अन्य प्रचार माध्यमों पर लगाने को भी कहा गया है।

sp bsp

समाजवादी पार्टी के मुताबिक दलितों में सपा को लेकर आक्रोश पहले से कम हुआ है। इन हालातों में बसपा से नाराज दलितों का खेमा समाजवादी पार्टी के साथ जा सकता है। यही वजह है कि समाजवादी पार्टी योजनाबद्ध तरीके से दलितों का भरोसा जीतने की कोशिश में लगी हुई है।