जम्मू-कश्मीर में सबकुछ हो गया सामान्य, मोबाइल और लैंडलाइन सेवाएं बहाल

बीते सप्ताह जम्मू-कश्मीर के सभी टेलीफोन एक्सचेंजों को सक्रिय करने के साथ घाटी के सभी लैंडलाइन कनेक्शनों को बहाल किया गया था।

Written by: September 11, 2019 8:35 pm

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के अन्य भाग में भी मोबाइल सेवाएं बुधवार को सक्रिय कर दी गईं। यह घाटी में सामान्य स्थिति को बहाल करने के लिए उठाया गया एक और कदम है। अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर में अब धीरे-धीरे हालात सामान्य हो रहे हैं। जम्मू कश्मीर प्रशासन के मुताबिक अब सभी एक्सचेंज सक्रिय हो गए और लैंडलाइन सेवाओं को बहाल कर दिया गया है। एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि पोस्ट पेड मोबाइल सेवाओं को बुधवार को कुपवाड़ा जिले में बहाल कर दिया गया। इसके साथ ही जरूरी सेवाओं के लिए काम कर रहे अधिकारियों के मोबाइल नंबर काम कर रहे हैं और अन्य सरकारी कार्यालयों के नंबरों को बहाल किया गया है।Jammu School

बीते सप्ताह जम्मू-कश्मीर के सभी टेलीफोन एक्सचेंजों को सक्रिय करने के साथ घाटी के सभी लैंडलाइन कनेक्शनों को बहाल किया गया था।

कश्मीर घाटी में 5 अगस्त से संचार सेवाएं निष्क्रिय थी। ऐसा 5 अगस्त को संसद द्वारा जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को रद्द कर दो केंद्रित शासित प्रदेश में बांटे जाने के बाद हुआ।

अगस्त के तीसरे हफ्ते से 2जी मोबाइल इंटरनेट सेवाएं जम्मू, सांबा, कठुआ, उधमपुर व रेयासी जिलों में बहाल की गई है।

सरकार के अनुसार, स्वास्थ्य सेवाएं सामान्य रूप से काम कर रही है, जबकि स्कूल भी खुल गए हैं।

सभी जिला मुख्यालयों में दस इंटरनेट कियोस्क बनाए गए हैं, जिसमें कम से कम पांच टर्मिनल हैं, जिसे विभागीय कार्यो जैसे ई-टेंडरिंग, छात्रवृत्ति फार्म व नौकरियों के आवेदन के लिए बनाया गया है।

सरकार की तरफ से यहां आम जनों के लिए क्या सुविधाएं दी गईं

सभी लैंडलाइन फोन शुरू हो गए हैं। कुपवाड़ा में पोस्टपेड मोबाइल भी चालू हो गए हैं।

स्कूल शुरू हो गए हैं। अध्यापकों और छात्रों की संख्या बढ़ा रही है।Jammu School

सभी हेल्थ इंस्टीट्यूशन्स काम कर रहे हैं। 510870 ओपीडी और 15157 हो चुकी हैं।

सभी बैंक/ATM चालू हो गए हैं। सिर्फ जम्मू एंड कश्मीर बैंक से ही 108 करोड़ रुपये निकाले गए हैं। दूसरे बैंकों की जानकारी आनी अभी बाकी है।

पेट्रोलियम प्रोडक्ट और अनाज पर्याप्त है। 06.08.19 से आपूर्ति करने वाले 42600 से अधिक ट्रकों की आवाजाही हुई है।

सभी जिला मुख्यालयों पर विभागीय उद्देश्यों जैसे ई-टेंडरिंग, स्कॉलरशिप फॉर्म जमा करना और नौकरी के लिए आवेदन के लिए 10 इंटरनेट कियोस्क लगाए गए हैं, प्रत्येक में 5 टर्मिनल हैं।

आम लोगों और पर्यटकों के मद्देनजर हवाई यात्रा की टिकट के लिए 12 अतिरिक्त काउंटर लगाए गए हैं।

जम्मू एवं कश्मीर में हालात सामान्य होने के करीब : डीजीपी

जम्मू एवं कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने बुधवार को कहा कि राज्य में हालात सामान्य होने के करीब है। यहां अधिकतर जिलों से लगभग पाबंदियां हटा दी गई है। उन्होंने पुलिस के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी आसिफ मकबूल भट के मारे जाने के बाद एक प्रेस वार्ता में कहा, “हम हालात सामान्य करने के काफी करीब हैं। अगर आप पूरे राज्य का संदर्भ लेते हैं तो, जम्मू के सभी 10 जिले पूरी तरह से सामान्य हो गए हैं। सभी स्कूल, कॉलेज और कार्यालय खुले हैं। लोग बिना किसी समस्या के अपना काम कर रहे हैं।”डीजीपी ने कहा कि लेह और कारगिल जिलों में भी हालात सामान्य है। उन्होंने कहा, “मैंने लेह और कारगिल का दौरा किया है। वहां पूरी तरह से जनजीवन सामान्य है। वहां निश्चित ही कोई पाबंदी नहीं है। उन क्षेत्रों में जहां पाबंदी है, वहां भी हम धीरे-धीरे पाबंदी हटाने की कोशिश कर रहे हैं।”

सिंह ने कहा कि 90 प्रतिशत क्षेत्र पाबंदी से मुक्त हैं और 100 प्रतिशत टेलीफोन एक्सचेंज काम कर रहे हैं। जम्मू एवं कश्मीर सूचना व जनसंपर्क विभाग के अनुसार, चार सितंबर की रात से सभी टेलीफोन एक्सचेंज को खोल दिया गया है।