अयोध्या में फैलाई जा रही हैं भ्रामक फर्जी खबरें, अयोध्या पुलिस ने किया पर्दाफाश, दी NSA की चेतावनी

अयोध्या पुलिस के मुताबिक कई सोशल मीडिया सेल जनपद अयोध्या में कई व्हाट्सएप ग्रुपों में इस प्रकार के भ्रामक मैसेज का प्रसार किया जा रहे हैं जिसका अयोध्या पुलिस पूर्णतया खंडन करती है।

Avatar Written by: November 8, 2019 1:25 pm

नई दिल्ली। अयोध्या पुलिस ने अयोध्या में फैलाई जा रही अफवाहों पर कड़ी चेतावनी दी है। अयोध्या पुलिस की ओर से “खबर बनाम सच” के नाम से एक विज्ञप्ति जारी की गई है। अयोध्या पुलिस के मुताबिक कई सोशल मीडिया सेल जनपद अयोध्या में कई व्हाट्सएप ग्रुपों में इस प्रकार के भ्रामक मैसेज का प्रसार किया जा रहे हैं जिसका अयोध्या पुलिस पूर्णतया खंडन करती है।

Ayodhya land case

अयोध्या पुलिस की ओर से यह भी कहा गया है कि ऐसे व्हाट्सएप ग्रुप के एडमिन का यह कर्तव्य है कि ऐसी सामग्री डालने वाले को तुरन्त ग्रुप से बाहर करे व इसकी सूचना तुरन्त पुलिस को दें। इस प्रकार की फेसबुक/व्हाट्सएप व अन्य सोशल मीडिया साइट्स पर पोस्ट की जाने वाली आपत्तिजनक सामग्री (जैसे लेख,फोटो,वीडियो आदि ) की सूचना तत्काल साइबर सेल इंचार्ज के नम्बरों व सार्वजनिक स्थानों पर लिखे गये पुलिस अधिकारियों के नंबरों पर और स्थानीय थानों पर दी जाए।

social media

पुलिस ने इस बात का भी अनुरोध किया है कि इस भ्रामक पोस्ट को शेयर न किया जाए। जो संदेश सोशल मीडिया में प्रसारित किए जा रहे हैं वह कुछ इस तरह हैं। इनके मुताबिक सोशल मीडिया (सोशल मीडिया साइट्स जैसे फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, हाईक आदि पर यह खबर प्रसारित हो रही है कि कल अयोध्या में communication के नये नियम लागू होने वाले हैं और सभी कॉल की recording होगी। सभी call recording saved होंगे। Whatsapp, Facebook, Twitter और सभी Social media सभी monitored होंगे। आपकी Devices को मन्त्रालय systems से जोड़ दिया जायेगा।

Ayodhya

इस प्रकार द्वारा प्रसारित खबर भ्रामक व असत्य है जिसका अयोध्या पुलिस सोशल मीडिया सेल पूर्ण रूप से खंडन करती है। अयोध्या के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी के मुताबिक फेसबुक/व्हाट्सएप व अन्य सोशल साइट पर भ्रामक सन्देश फैलाना जेल जाने का कारण बन सकता है।

Ayodhya land case

अयोध्या पुलिस की ओर से कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया साइट्स जैसे फेसबुक, टविटर, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, हाईक आदि पर किसी भी प्रकार के धार्मिक/साम्प्रदायिक, भ्रामक, असत्य, सौहार्द बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक फोटो, वीडियो, मैसेज को पोस्ट/लाइक/शेयर न करें अन्यथा अफवाह फैलाने या धार्मिक/साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाले ऐसे लोगों के विरूद्ध प्रक्रिया अनुसार आईपीसी व सूचना एक्ट की उचित धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर कठोर वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। उसके विरुद्ध NSA तक की कार्यवाही भी की जा सकती है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost