फाइबर निर्माता कंपनी रिलायंस ने ‘सस्टेनेबल क्लॉदिंग’ को किफायती बनाने का लक्ष्य तय किया

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल), दुनिया के सबसे बड़े एकीकृत पॉलिएस्टर यार्न और फाइबर निर्माता, ने ‘सस्टेनेबल क्लॉदिंग’ को भी सस्ता और सुलभ बनाने के लिए एक बड़ा प्रयास किया है।

Written by: September 11, 2019 1:47 pm

नई दिल्ली। ‘सस्टेनेबल फैशन’ फैशन इंडस्ट्री में एक चर्चित शब्द बन गया है क्योंकि बड़े कॉर्पोरेट्स, टेक्सटाइल मैन्युफैक्चरर्स, फैशन डिजाइनर और नामी फैशन हाउस फैशन सस्टेनेबल फैशन ऍपेरेल्स की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए आक्रामक रूप से अपना काम कर रहे हैं। आज, युवा पर्यावरण के बारे में जागरूक और चिंतित हैं और वे सस्टेनेबल यानि टिकाऊ उत्पादों की मांग कर रहे हैं, जिनसे सबसे कम कार्बन फुटप्रिंट्स हो और, पर्यावरण को कम से कम नुकसान पहुंचता हो।

ril

आरआईएल के एक प्रमुख अधिकारी ने बताया कि समूह के टेलीकॉम वेंचर जियो की प्रतिस्पर्धी दरों के साथ काफी अधिक बिक्री दर्ज करने की सफलता की कहानी को दोहराते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल), दुनिया के सबसे बड़े एकीकृत पॉलिएस्टर यार्न और फाइबर निर्माता, ने ‘सस्टेनेबल क्लॉदिंग’ को भी सस्ता और सुलभ बनाने के लिए एक बड़ा प्रयास किया है।

आरआईएल के पेट्रोकेमिकल्स डिवीजन के मुख्य परिचालन अधिकारी विपुल शाह ने कहा कि ‘‘हमारे लिए, सस्टेनेबिलिटी एक फैशनेबल शब्द नहीं है, हम इससे पूरी तरह से डटकर फैशन तैयार कर रहे हैं और यह एक स्थायी बिजनेस है।’’ ‘‘अब समय आ गया है कि हम सस्टेनेबिलिटी को कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी के परे देखें।’’ उन्होंने कहा कि भारत में पीईटी बोतलों की रीसाइक्लिंग में रिलायंस इंडस्ट्रीज काफी अग्रणी है और कंपनी हर साल दो बिलियन पोस्ट-कंज्यूमर (प्रयुक्त) पीईटी बोतलों की प्रोसेसिंग कर रही है और इसे अगले दो साल में छह बिलियन तक बढ़ाने की योजना है।

प्रयुक्त वेस्ट पीईटी बोतल की रीसाइक्लिंग के लिए आरआईएल की पहल सस्टेनेबिलिटी और सकुलेरिटी का एक उत्कृष्ट उदाहरण है क्योंकि यह दुनिया की एकमात्र कंपनी है जिसने बोतलों को बनाने के लिए पीईटी रेसिन के निर्माण से पूरी तरह से एक प्रोसेस सिस्टम बनाया है, जो कि बोतलबंद पीईटी बोतलों को एकत्र करने से लेकर, उन्हें रिक्रॉन ग्रीन गोल्ड में परिवर्तित करना, डाउनस्ट्रीम कपड़ा मूल्य श्रृंखला द्वारा उपयोग के लिए पर्यावरण के अनुकूल पॉलिएस्टर फाइबर जो फाइबर को हाई वैल्यू स्लीप उत्पादों और आर।एलान आधारित फैशन परिधान में परिवर्तित करता है।

ril 2

आरआईएल ने दो दशकों से अधिक समय तक समाज और राष्ट्र के प्रति सामाजिक जिम्मेदारी के प्रमुख उद्देश्य के साथ, उपयोग की गई पीईटी बोतलों को एकत्र कर और इनको सस्टेनेबल तरीके से फाइबर में तब्दील किया है। प्रयुक्त पीईटी बोतलों का उपयोग करके उत्पादित ग्रे फाइबर को रिक्रॉन ग्रीनगोल्ड के रूप में ब्रांडेड किया जाता है और डोप रंगे पॉलिएस्टर स्टेपल फाइबर को रिक्रॉन ग्रीन गोल्ड ईकोडी के रूप में ब्रांडेड किया जाता है। ये इको-फ्रैंडली फाइबर रिलायंस की अगली पीढ़ी के फैब्रिक रेंज ब्रांडेड आर। एलान फैब्रिक 2.0 को स्थिरता प्रदान करते हैं।

आम तौर पर सभी पेय की बोतलें कचरे के रूप में फैंक  दी जाती हैं, और संभवत: शहर के जल निकासी प्रणालियों को लैंडफिल या अवरूद्ध करने का कारण बन सकती हैं। आरआईएल एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट होने के नाते, लोगों को कम करने, पुन: उपयोग करने, 2000 के शुरुआती दिनों में वापस आने वाले उपयोगी उत्पादों में रीसाइकिल करने की अवधारणा पर विश्वास करने के लिए जागरूकता पैदा करके, इसे संबोधित करने की पहल की है।

सस्टेनेबिलिटी में आंतरिक पहलों को मजबूत करने के अलावा, आरआईएल पूरे कपड़ा उद्योग के साथ मिलकर काम कर रहा है, अपने हब एक्सीलेंस प्रोग्राम के माध्यम से यार्न, कपड़ा निर्माताओं, प्रमुख घरेलू और इंटरनेशनल ब्रांड्स, रिटेल विक्रेताओं और फैशन हाउसों को शामिल कर रहा है। आरआईएल ने इस तरह के अग्रणी यार्न, टेक्सटाइल और अपैरल के साथ साझेदारी कर समान विचारधारा आधारित संबंध विकसित किया है। आरआईएल ने को-ब्रांडेड टेक्सटाइल और अपेरल्स बनाने की रणनीति अपनाई और यह पहले ही अन्य इंटरनेशनल ब्रांड्स में एरो, रैंगलर, रेमंड, ली जैसे ब्रांडों के साथ सहभागिता कर चुका है।

ril 3

वैश्विक पेट्रोकेमिकल बाजार कई चुनौतियों का सामना कर रहा है क्योंकि चीन और मेक्सिको के साथ अमेरिकी व्यापार विवादों ने वैश्विक आपूर्ति को प्रभावित किया है और नई क्षमताएं आ रही हैं। लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि रीसाइक्लिड पॉलिमर वैश्विक ब्रांडों से आने वाली मजबूत मांग को देख सकते हैं जो उपभोक्ताओं के बीच बढ़ती जागरूकता का जवाब देने के लिए सस्टेनेबल उत्पादों की तरफ देख रहे हैं।

इटालियन ब्रांड प्राडा ने अपने प्रतिष्ठित नायलॉन बैग के लिए रीसाइक्लिड सामग्री को अपनाने का फैसला किया है, जबकि ब्रिटिश लेबल बरबेरी ने ग्रीन यार्न से बनी एक नई कलेक्शन को लॉन्च किया है। कई विकसित देशों में उपभोक्ता एथिकल या सस्टेनेबल फैशन को अपना रहे हैं, और इसके लिए प्रीमियम का भुगतान करने के लिए भी तैयार हैं। भारतीय खरीदार, हालांकि, अभी भी ऐसे उत्पादों के मूल्यों को लेकर काफी संवेदनशील हैं।

आरआईएल की रणनीति सस्टेनेबल निर्माण के लिए एक पैमाने पर निर्माण करना है और इसे सस्ती और सुलभ बनाना है। शाह ने कहा कि ‘‘इन उत्पादों की मांग बढ़ेगी, लेकिन कोई भी सस्टेनेबल उत्पादों के लिए प्रीमियम का भुगतान नहीं करेगा।’’ उन्होंने कहा कि ‘‘हमें सही मूल्य निर्धारण के साथ एक बड़ा अभियान शुरू करना होगा जिसमें एक बड़ा वर्ग वाणिज्यिक समझ में आता है। टिकाऊ कपड़ों के लिए प्रीमियम मूल्य निर्धारण में पर्याप्त बदलाव नहीं होगा, जो कि पर्यावरण की जरूरत है।’’

एक रणनीति के रूप में, आरआईएल उन गुणों के आधार पर टिकाऊ फाइबर बेच रहा है जो इसे उसी विशेषताओं के साथ नॉन-सस्टेनेबल उत्पादों के लिए प्रतिस्पर्धी मूल्य पर इससे बने कपड़े प्रदान करेगा। इंडियन परफॉर्मेंस वियर ब्रांड एल्किस स्पोर्ट्स और डिजाइनर नरेंद्र कुमार ने आर। एलानफाइबर का उपयोग करते हुए लेबल ‘एल्किस एक्स नारी’ के तहत सस्टेनेबल जिम और वर्कवियर की एक नई कलेक्शन लॉन्च करने के लिए हाथ मिलाया है।

कुमार ने कहा कि ‘‘सस्टेनेबिलिटी को लेकर उपभोक्ताओं के बीच कम मान्यता है।’’ उन्होंने कहा कि ‘‘अधिकांश उपभोक्ताओं को अभी तक पर्यावरण के मुद्दों की भयावहता को समझना बाकी है। इसलिए हमने फैशन के एलीमेंट्स को शामिल करने के लिए काम किया है लेकिन इसे फंक्शनल और सस्ती बनाया है। हम उपभोक्ताओं को बता रहे हैं, दुनिया को बचाने के लिए इन कपड़ों को न पहनें, बल्कि इन्हें पहनें क्योंकि यह फैशनेबल और सस्ते हैं।’’

ril4

आरआईएल और कुमार भी उपभोक्ताओं द्वारा उपयोग किए जाने के बाद इन उत्पादों को रीसाइक्लि करने के तरीकों पर काम कर रहे हैं, ताकि वे लैंडफिल्स में ना दबाई जाएं। कुमार ने कहा कि ‘‘हमारे पास ऐसी प्रणाली होगी जहां ग्राहक इस्तेमाल किए गए उत्पादों को स्टोर पर लौटा सकते हैं और छूट पा सकते हैं। कपड़े फिर से रीसाइक्लिंग के लिए भेजे जा सकते हैं। ये पूरी वैल्यू चेन एक चक्र में पिरोई गई है।’’

ग्लोबल ब्रांड स्विमवियर से लेकर विंटर वियर से लेकर बैकपैक तक सब कुछ रिसाइकल मैटीरियल के साथ कर रहे हैं। यदि संसाधन के रूप में इसके कचरे को देखें तो भारत जल्द ही इस दिशा में काफी आगे जा सकता है।