कांग्रेस का दावा झूठा साबित, सेना ने कहा- 2016 में ही हुई थी पहली सर्जिकल स्‍ट्राइक

उन्‍होंने इस बात की पुष्टि की है कि साल 2016 में इंडियन आर्मी ने पहली सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी। जनरल सिंह का बयान इसलिए अहम हो जाता है क्‍योंकि साल 2016 में जब इंडियन आर्मी ने पीओके में सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी तो उस समय जनरल सिंह ही डायरेक्‍टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस (डीजीएमओ) थे।

Written by: May 20, 2019 2:08 pm

नई दिल्ली। भारतीय सेना की ओर से सोमवार को एक बार फिर कहा गया है कि सेना ने पहली सर्जिकल स्‍ट्राइक को सितंबर 2016 में ही अंजाम दिया था। सेना की ओर से दी गई इस जानकारी से कांग्रेस के दावे की पोल फिर खुल गई है। दरअसल कांग्रेस ने दावा किया था कि उसकी सरकार में भी सर्जिकल स्‍ट्राइक की गई थीं।

Lt Gen Ranbir Singh

लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह की मानें तो भारतीय वायुसेना की बालाकोट एयर स्‍ट्राइक एक बड़ी उपलब्धि है। उन्‍होंने कहा कि आतं‍की ठिकानों पर भारतीय वायुसेना की यह कार्रवाई बड़ी उपलब्धि है। हमारे विमान दुश्‍मन देश में अंदर तक घुसे और आतंकियों के लॉन्‍च पैड को तबाह किया। इसके अगले दिन पाकिस्‍तान ने यहां विमान भेजे थे। लेकिन उन्‍हें मुंहतोड़ जवाब दिया गया था।

इसके साथ ही उन्‍होंने इस बात की पुष्टि की है कि साल 2016 में इंडियन आर्मी ने पहली सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी। जनरल सिंह का बयान इसलिए अहम हो जाता है क्‍योंकि साल 2016 में जब इंडियन आर्मी ने पीओके में सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी तो उस समय जनरल सिंह ही डायरेक्‍टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस (डीजीएमओ) थे।

वहीं, लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने आगे कहा कि इस साल हमने 86 आतंकियों को अब तक ढेर किया है और हमारा ऑपरेशन पूरी तरह से जारी है। वहीं, तकरीबन 20 को पकड़कर वापस मुख्यधारा में लाया गया है।

वहीं, कुछ दिन पहले वहीं, साल 2016 में पहली सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में दायर हुई एक आरटीआई को दिए गए डीजीएमओ के जवाब को लेकर उन्होंने कहा कि मैं उसमें नहीं जाना चाहता कि राजनैतिक दल क्या कह रहे हैं। उन्हें सरकार की ओर से जवाब दिया जाएगा। लेकिन मैंने जो आपसे कहा, वह एक तथ्य है।

बता दें कि कुछ समय पहले रक्षा मंत्रालय में आरटीआई अर्जी दाखिल कर रक्षा मंत्रालय से पूछा गया था कि क्या 29 सितंबर, 2016 के डीजीएमओ के सर्जिकल स्ट्राइक का उल्लेख है, वो भारतीय सेना के इतिहास में पहला ऐसा लक्षित हमला था। यह भी पूछा गया कि क्या सेना ने 2004 से 2014 के बीच सर्जिकल स्ट्राइक की थी। इस पर बताया गया था कि सेना के सैन्य अभियान महानिदेशालय (डीजीएमओ) के पास 29 सितंबर, 2016 से पहले हुई किसी भी सर्जिकल स्ट्राइक का कोई रिकॉर्ड नहीं है। डीजीएमओ ने कहा था कि 29  सितंबर, 2016 को एक सर्जिकल स्ट्राइक की गयी थी।