वाराणसी में सपा-बसपा गठबंधन ने बदला प्रत्याशी, बर्खास्‍त बीएसएफ जवान तेज बहादुर को टिकट

वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ समाजवादी पार्टी-बीएसपी गठबंधन ने अपना प्रत्‍याशी बदल दिया है। सोमवार को नामांकन दाखिल करने के आखिरी दिन समाजवादी पार्टी के उम्‍मीदवार को लेकर काफी देर तक सस्‍पेंस बना रहा।

Written by: April 29, 2019 3:50 pm

नई दिल्ली। वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ समाजवादी पार्टी-बीएसपी गठबंधन ने अपना प्रत्‍याशी बदल दिया है। सोमवार को नामांकन दाखिल करने के आखिरी दिन समाजवादी पार्टी के उम्‍मीदवार को लेकर काफी देर तक सस्‍पेंस बना रहा। एसपी की पूर्व घोषित प्रत्‍याशी शालिनी यादव और बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव ने समाजवादी पार्टी के प्रत्‍याशी के तौर पर पर्चा दाखिल किया। हालांकि बाद में पार्टी ने स्‍पष्‍ट किया कि तेज बहादुर यादव ही पीएम मोदी के खिलाफ उनके प्रत्‍याशी होंगे और शालिनी यादव बाद में अपना नामांकन वापस लेंगी।

Narendra Modi

तेज बहादुर यादव ने पहले इस सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया था। बता दें कि समाजवादी पार्टी ने वाराणसी से शालिनी यादव को उम्मीदवार बनाया था। शालिनी कांग्रेस के पूर्व सांसद एवं राज्यसभा के पूर्व उपसभापति श्यामलाल यादव की पुत्रवधु हैं। वह वाराणसी से मेयर का चुनाव लड़ चुकी हैं। शालिनी को सपा में शामिल हुई थी और इसी दिन उनका टिकट फाइनल हो गया था।

Shalini Yadav

बता दें कि बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेजबहादुर इसके पहले भी नामांकन कर चुके हैं लेकिन सूत्रों के मुताबिक उनका पर्चा किसी वजह से खारिज हो गया था। यह भी कहा जा रहा है कि उन्‍होंने टिकट के लिए एसपी अध्‍यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात भी की है। सूत्रों के मुताबिक तेज बहादुर का पर्चा स्‍वीकार होते ही दो मई को नाम वापसी के आखिरी दिन से पहले शालिनी अपना नाम वापस ले लेंगी।

tej bahadur

खराब खाने की सोशल मीडिया पर शिकायत को लेकर तेज बहादुर यादव को बीएसएफ से सस्पेंड कर दिया गया था। वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ लड़ रहे तेजबहादुर को कई पार्टियों का समर्थन मिल रहा है। तेज बहादुर यादव पिछले कई दिनों से पीएम मोदी के खिलाफ जोरदार प्रचार कर रहे हैं।