मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का निधन, लंबे समय से थे बीमार

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर का बुधवार सुबह भोपाल के निजी अस्पताल में 89 वर्ष की अवस्था में निधन हो गया। मंगलवार रात उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई थी।

Written by: August 21, 2019 9:00 am

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर का बुधवार सुबह भोपाल के निजी अस्पताल में 89 वर्ष की अवस्था में निधन हो गया। मंगलवार रात उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई थी। बाबूलाल का ब्लड प्रेशर कम होने के साथ उनकी पल्स रेट भी गिर गया था। उनकी किडनी ने भी काम करना पूरी तरह बंद कर दिया था। वे पिछले 14 दिनों से अस्पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे।

Babulal Gaur

7 अगस्त को पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर की अचानक तबियत बिगड़ गई थी। इसके बाद उन्हें भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनका इलाज जारी था। उन्हें शुरू में घबराहट महसूस हुई जिसके तुरंत बाद उन्हें एक निजी अस्पताल ले जाया गया। वहां उनका इलाज चल रहा था। इससे पहले दिल्ली स्थित मेदांता अस्पताल में उनकी एंजियोप्लास्टी की गई थी।

babulal gaur

गौर 1974 में भोपाल की गोविदपुरा सीट पर उपचुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव में खड़े हुए और जीत हासिल की। इसके बाद उन्होंने इस सीट से लगातार चुनाव जीतने का रिकॉर्ड बनाया। वे लगातार 10 विधानसभा चुनाव जीते। गौर मार्च 1990 से दिसंबर 1992 तक मध्यप्रदेश में भोपाल गैस त्रासदी राहत मंत्री, स्थानीय शासन, विधि एवं विधायी कार्य और संसदीय कार्यमंत्री रहे। अगस्त 2004 में उन्होंने उमा भारती के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का पद संभाला। 23 अगस्त 2004 से 29 नवंबर 2005 तक वे प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। वर्ष 2013 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा फिर सत्ता में आई और उन्हें मंत्री बनाया गया।

Babulal Gaur
बाबूलाल गौर को सख्त छवि के लिए भी जाना जाता है। नगरीय प्रशासन मंत्री रहते हुए उन्होंने अवैध निर्माण और अतिक्रमण पर बुलडोजर चलवा दिए थे। तब से उन्हें बुलडोजर मंत्री के रूप में पहचाना जाने लगा।