गिरिराज सिंह का नया ऐलान- देश में लागू हो जाए ये कानून फिर लूंगा राजनीति से संन्यास

गिरिराज सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की ये दूसरी पारी उनके राजनीतिक जीवन की आखिरी पारी होगी। अब अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो गया है तो अब गिरिराज सिंह ने नया ऐलान किया है

Written by: November 16, 2019 5:06 pm

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ऐलान किया है कि, देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू हो जाए तो उसके बाद वो राजनीति से संन्यास लेंगे। ये उन्होंने राजनीति से संन्यास लेने का नया ऐलान किया है, इससे पहले उन्होंने ऐलान किया था कि, अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो जाए तो फिर वो राजनीति को अलविदा कह सकते हैं।

giriraj singh

बता दें कि इससे पहले गिरिराज सिंह ने बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में एक बड़ा बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि उनका राजनीतिक जीवन अब ढलान की ओर है और कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद उनका आधा राजनीतिक मकसद पूरा हो गया है। अब बस अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण उनके जीवन का एक सपना है।इस सपने के पूरा हो जाने के बाद वह राजनीति को प्रणाम कह देंगे।

Giriraj Singh

गिरिराज सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की ये दूसरी पारी उनके राजनीतिक जीवन की आखिरी पारी होगी। अब अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो गया है तो अब गिरिराज सिंह ने नया ऐलान किया है। मुजफ्फरपुर में सर्किट हाउस में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान गिरिराज सिंह ने पहली बार राजनीति छोड़ने का चौंकाने वाला बयान दिया था और कहा था कि कश्मीर के भारत का अभिन्न अंग बनने के साथ ही उनका आधा राजनीतिक मकसद पूरा हो गया है।

Giriraj Singh

हालांकि गिरिराज सिंह ने तब कहा था कि अब वो जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने के लिए कोशिश करेंगे।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने लालकिले के प्राचीर से जनसंख्या नियंत्रण पर बात की है ये उनकी बड़ी उपलब्धि है। गिरिराज सिंह ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण उनके जीवन का एक सपना है। इस सपना के पूरा हो जाने के बाद वे राजनीति को प्रणाम कर लेंगे। प्रेस वार्ता के दौरान पत्रकारों ने जब उनसे 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी का चेहरा बनने पर सवाल किया तो वे भावुक हो गए।

giriraj

गिरिराज सिंह ने कहा कि राजनीति में आने का उनका मकसद विधायक या मंत्री बनने का नही था, बल्कि वे राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देने के लिए राजनीति में आए हैं।