ईडी दफ्तर नहीं जाएंगे शरद पवार, कहा-नहीं चाहता कानून व्यवस्था खराब हो

शरद पवार ने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियां उनके साथ हैं और बैंक घोटाले से उनका कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा, मैं नहीं चाहता कि कानून व्यवस्था खराब हो, इसलिए ईडी दफ्तर नहीं जाने का फैसला किया है।

Avatar Written by: September 27, 2019 1:32 pm

नई दिल्ली। बैंक घोटाले में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार के खिलाफ केस दर्ज होने से महाराष्ट्र की राजनीति गरमा गई है। शरद पवार आज बिना बुलाए प्रवर्तन निदेशालय के सामने पेश होने वाले थे, लेकिन मुंबई पुलिस कमिश्नर से मिलने के बाद उन्होंने ईडी जाने के अपने फैसले को रद्द कर दिया है।

sharad pawar

शरद पवार ने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियां उनके साथ हैं और बैंक घोटाले से उनका कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा, मैं नहीं चाहता कि कानून व्यवस्था खराब हो, इसलिए ईडी दफ्तर नहीं जाने का फैसला किया है।

इससे पहले ईडी ने कहा कि उन्हें दफ्तर में आने की इजाजत नहीं होगी। प्रवर्तन निदेशालय ने शरद पवार को ई-मेल भेजा, जिसमें कहा गया कि वो आज ईडी के दफ्तर ना आएं। शरद पवार की पेशी से पहले उनके समर्थकों और पार्टी कार्यकर्ताओं ने ईडी कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। हंगामे के आसार को देखते हुए शरद पवार ने अपने समर्थकों से अपील की है कि वे ईडी के दफ्तर के सामने न जुटें।

वहीं शरद पवार के ईडी  के समक्ष पेश होने से पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। राहुल गांधी ने एनसीपी प्रमुख के प्रति समर्थन जताते हुए आरोप लगाया कि पवार को प्रतिशोध के तहत कारवाई करने वाली सरकार निशाना बना रही है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘शरद पवार जी प्रतिशोध वाली सरकार के निशाने पर आए हैं। उनके खिलाफ कार्रवाई महाराष्ट्र में चुनाव से एक महीने पहले की जा रही है। इससे अवसरवाद की बू आती है।’

ईडी ने महाराष्ट्र स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक (एमएससीबी) में 25 हजार करोड़ रुपये के कथित घोटाले में शरद पवार और उनके भतीजे अजीत पवार के साथ ही अन्य राजनेताओं और कई अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।