रोमियो, टैंगो, अल्फा, माइक…आईबी ने पकड़े पाकिस्तानी ‘बदले’ के कोडवर्ड, यूएन सेशन से पहले का टारगेट

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो रही फजीहत से बौखलाया पाकिस्तान आतंकवाद के सहारे बदला लेने की तैयारी में है। खुफिया एजेंसियों ने कुछ ऐसे कोडवर्ड पकड़े हैं जो पाकिस्तान की इस खतरनाक साजिश का खुलासा करते हैं।

Avatar Written by: August 23, 2019 1:02 pm

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो रही फजीहत से बौखलाया पाकिस्तान आतंकवाद के सहारे बदला लेने की तैयारी में है। खुफिया एजेंसियों ने कुछ ऐसे कोडवर्ड पकड़े हैं जो पाकिस्तान की इस खतरनाक साजिश का खुलासा करते हैं। पाकिस्तान ने यह जिम्मेदारी ग्लोबल आतंकी घोषित मसूद अजहर के भाई को सौंपी है।

इस अभियान में तालिबान के कुछ लड़ाकों को भी शामिल किया जा रहा है। खुफिया सूत्रों के मुताबिक अफगानिस्तान से आए ये आतंकी पीओके की सीमा के पास आईएसआई के सुरक्षित ठिकाने में छिपे हुए हैं। इनका ट्रांजिट कैंप पीओके में सवाई नाला से करीब 98 किलोमीटर दूर दूधनियाल लॉन्च पैड पर तैयार किया गया है। इस पुख्ता जानकारी के बाद एजेंसियां एलर्ट हो गयी हैं। इन अफगानी आतंकियों की घुसपैठ को एजेंसियां ट्रैक न कर सकें, इस वास्ते कुछ खुफिया कोड वर्ड भी तैयार किए गए हैं।

रोमियो, टैंगो-2, अल्फा, माइक और चार्ली-3 जैसे कोड के ज़रिए इस ऑपरेशन को अंजाम देने की खतरनाक तैयारी की गई है। इन आतंकियों को पाकिस्तान के मुजफ्फराबाद में बने कंट्रोल रूम ’88’ से निर्देशित किया जा रहा है। खुफिया जानकारी के मुताबिक यहां आईएसआई और पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों ने खुद डेरा डाला हुआ है। कोशिश इस बात की है कि यूएन जनरल असेंबली से पहले किसी बड़ी वारदात की भूमिका तैयार की जा सके ताकि कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हाइलाइट किया जा सके।

आईएसआई ने इस घुसपैठ का जिम्मा जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भाई रऊफ असगर को दिया है। रऊफ ही इन दिनों जैश-ए-मोहम्मद का मुख्य सरगना है। इस आतंकी साज़िश में उसने माविया खान नाम के आतंकी को 50 से 60 फिदायीनों के दस्ते की ज़िम्मेदारी सौंपी है।