मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों के घर छापेमारी में कैश के अलावा मिली ‘ये चीजें’

जिन लोगों पर छापेमारी की गई, उनमें कमलनाथ के पूर्व ओएसडी प्रवीण कक्कड़, पूर्व सलाहकार राजेंद्र मिगलानी और उनके रिश्तेदार की कंपनी मोजर बेयर तथा उनके भांजे रातुल पुरी की कंपनी से जुड़े अधिकारी शामिल हैं। 

Written by: April 8, 2019 10:55 am

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों के घर रविवार को शुरू हुई आयकर विभाग की छापेमारी सोमवार को भी जारी है। अभी तक इस छापेमारी में 10-14 करोड़ रुपये की नकदी बरामद हुई है। इन पैसों को गिनने के लिए आयकर विभाग की टीम नकदी गिनने की मशीन साथ ले गई है।

आयकर विभाग की 200 अधिकारियों की टीम रविवार की सुबह से छापेमारी कर रही है। जिसमें कैश के अलावा कुछ ऐसी चीजें भी मिली हैं जिनसे अंदाजा लगाना आसान है कि इनका प्रयोग लोकसभा चुनाव में पॉलिटिकल कैंपेन के लिये किया जाना था। बता दें कि IT अधिकारियों की टीम को यहां से नकदी के अलावा महंगी शराब की बोतलें और हथियार भी मिले।

Congress leader Kamalnath Singh

आयकर विभाग के अधिकारियों ने बताया कि छापेमारी की जगहों से महंगी शराब की बोतलें, आग्नेय अस्त्र भी बरामद किए गए। सूत्रों की मानें तो कोलकाता के कारोबारी पारसमल लोढ़ा के ठिकानों पर भी छापेमारी की गई। लोढ़ा को प्रवर्तन निदेशालय ने नोटबंदी के बाद धनशोधन के आरोपों में गिरफ्तार किया था।

बता दें कि आयकर अधिकारियों ने 52 स्थानों पर छापेमारी की है जिसमें इंदौर, भोपाल, गोवा और दिल्ली (ग्रीन पार्क) शामिल है। जिन लोगों पर छापेमारी की गई, उनमें कमलनाथ के पूर्व ओएसडी प्रवीण कक्कड़, पूर्व सलाहकार राजेंद्र मिगलानी और उनके रिश्तेदार की कंपनी मोजर बेयर तथा उनके भांजे रातुल पुरी की कंपनी से जुड़े अधिकारी शामिल हैं। अधिकारियों ने बताया कि लोकसभा चुनाव की घोषणा होने से पहले ही कक्कड़ और मिगलानी ने इस्तीफा दे दिया था।

मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष और मुख्यमंत्री कमलनाथ के पूर्व OSD भूपेंद्र गुप्ता ने आरोप लगाया, ‘बीजेपी सरकार राजनीतिक रंजिश के चलते पूरे देश में विपक्ष के नेताओं को निशाना बना रही है।

इसके जवाब में बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, ‘मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के निजी सचिव के घर से आयकर विभाग के छापे में करोड़ों रुपये की काली कमाई बरामद हुई। इससे एक बात तो साफ हो गई कि जो चोर है, उसे ही चौकीदार से शिकायत है।’