Twitter Vs KOO: ट्विटर की टक्कर का भारत में आया देसी ऐप KOO, 10 लाख से ज्यादा लोग जुड़े, कई बड़ी हस्तियां भी इसमें शामिल

Twitter Vs KOO: भारतीय लोगों के लिए एक खुशी ये है कि एक देसी ऐप आपके सामने पेश किया गया है जो आपके ट्विटर की कमी को पूरी करेगा। इस ऐप का नाम KOO है। इसको अब आप ट्विटर की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस ऐप के लॉन्च होने के बाद से अबतक 10 लाख लोग इससे जुड़ चुके हैं। जिसमें कई नामी गिरामी लोग शामिल हैं।

Avatar Written by: February 10, 2021 2:13 pm

नई दिल्ली। भारत में सोशल मीडिया पर लोगों की सक्रियता जिस तरह से बढ़ रही है। उसी तरह भारत और यहां की सरकार के खिलाफ इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल भी बढ़ रहा है। Twitter, Facebook, Instagram जैसे कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए भारत के खिलाफ लगातार साजिश रची जा रही है। ऐसे में ट्वीटर को लेकर पहले से ही सरकार की नजर टेढ़ी है। जारी किसान आंदोलन के बीच तो ट्वीटर पर लगातार सरकार और देश के खिलाफ जिस तरह का प्रोपेगेंडा रचा गया उसके बाद से भारत सरकार एक्शन के मुड़ में भी नजर आ रही है। Twitter को कई अकाउंट को हटाने का आदेश भी सरकार की तरफ से दिया गया है। अब ऐसे में भारतीय लोगों के लिए एक खुशी ये है कि एक देसी ऐप आपके सामने पेश किया गया है जो आपके ट्विटर की कमी को पूरी करेगा। इस ऐप का नाम KOO है। इसको अब आप ट्विटर की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस ऐप के लॉन्च होने के बाद से अबतक 10 लाख लोग इससे जुड़ चुके हैं। जिसमें कई नामी गिरामी लोग शामिल हैं।

Koo APP

आपको बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने जब आत्मनिर्भर भारत और डिजिटल क्रांति का जिक्र किया तो उसके बाद भारत में इसको लेकर सक्रियता तेज हो गई। भारत दुनिया में सबसे ज्यादा सॉफ्टवेयर डेवलेपर्स पैदा करता है। यहां के सॉफ्टवेयर इंजीनियर पूरी दुनिया में जाकर कंपनियों में काम करते हैं। ऐसे में पीएम मोदी की अपील के बाद भारत के डेवलेपर ने अपनी शुरुआत कर दी।

Modi Twitter

जिसके बाद कई मेड इन इंडिया ऐप (made in india) लॉन्च किए गए। इसी क्रम में एक एक भारतीय ऐप ‘Koo’ लॉन्च किया गया जो Twitter का विकल्प है। इसके लॉन्च होने के साथ ही कई भारतीय मंत्रियों और सेलिब्रिटीज ने इस भारतीय ऐप को डाउनलोड करके साइन अप कर लिया।


आपको बता दें कि भारत सरकार के केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद और रेल मंत्री पीयूष गोयल जैसे अहम लोग भी Koo पर साइन अपर कर चुके हैं। वहीं अब तक इसपर यूजर की संख्या 10 लाख को पार कर गई है। इस भारतीय माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट का विकास मार्च 2020 में अप्रम्या राधाकृष्णा (Aprameya Radhakrishna) और मयंक बिदावत्क (Mayank Bidawatka) ने किया। ये काफी हद तक Twitter की तरह ही एक माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है जो अलग-अलग मुद्दों पर अपनी राय देने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

Koo APP

इस ऐप पर केंद्रीय मंत्री, केंद्रीय मंत्रालयों और केंद्र सरकार के अन्य विभागों ने इस देसी ऐप पर अपना अकाउंट बनाया है और लोगों से जुड़ने की अपील भी की है। ये वही ऐप है जिसने पिछले साल भारत सरकार ने आत्मनिर्भर भारत एप चैलेंज के तहत लॉन्च किया था, जिसमें कू ने भी हिस्सा लिया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक कार्यक्रम मन की बात में भी इस ऐप का जिक्र किया था। ये ऐप हिंदी, तेलुगु, कन्नड़, बंगाली, तमिल, मलयालम, गुजराती, मराठी, पंजाबी, उड़िया और असमी भाषा को सपोर्ट करता है। यूज़र कू ऐप के जरिए फोटो, ऑडियो, वीडियो और लिखित कंटेंट शेयर कर सकते हैं।

Support Newsroompost
Support Newsroompost