भारतीय सेना हुई सख्त, चीन से लगी सभी सीमाओं पर बढ़ाई तैनाती

लद्दाख की गलवन घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद अब भारतीय सेना और सख्त हो गई है। सेना ने चीन से लगी सभी सीमाओं के अग्रिम मोर्चो पर तैनाती बढ़ा दी है।अब चीनी सैनिकों को कोई भी कदम उठाने से पहले दस बार सोचना सोचना होगा, क्योंकि भारतीय सेना इस मोर्चे पर कोई कसर छोड़ने को तैयार नहीं है। इतना ही नहीं कई सीमावर्ती गांवों को भी खाली कराया जा रहा है।

Avatar Written by: June 19, 2020 9:15 am

नई दिल्ली। लद्दाख की गलवन घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद अब भारतीय सेना और सख्त हो गई है। सेना ने चीन से लगी सभी सीमाओं के अग्रिम मोर्चो पर तैनाती बढ़ा दी है।अब चीनी सैनिकों को कोई भी कदम उठाने से पहले दस बार सोचना सोचना होगा, क्योंकि भारतीय सेना इस मोर्चे पर कोई कसर छोड़ने को तैयार नहीं है। इतना ही नहीं कई सीमावर्ती गांवों को भी खाली कराया जा रहा है।

ऐसे में मौजूदा हालात सामान्य करने के लिए सैन्य कमांडर स्तर पर हुई बातचीत में गुरुवार को सेना ने फिर स्पष्ट कर दिया है कि गलवन घाटी में पहले की स्थिति बहाल करने के अलावा इसका चीन के पास कोई दूसरा रास्ता नहीं है।

वहीं गलवन घाटी की घटना के बाद इलाके में चीनी सेना पीछे हटने को तैयार नहीं है। ऐसे में भारतीय सेना ने यहां पर अपने सैनिकों का जमावड़ा बढ़ा दिया है। इतना ही नहीं इस जगह से करीब दो-तीन किलोमीटर दूर सेना के दर्जनों ट्रक अपने जरूरी संसाधनों के साथ खड़े हैं। वहीं चीन ने भी गलवन घाटी से एक किलोमीटर दूर एलएसी के पार अपने इलाके में सैन्य वाहनों और सैनिकों का जमावड़ा कर रखा है। वहीं चीनी सेना अब भी गलवन घाटी में संघर्ष के इलाके से पीछे हटने को तैयार नहीं है। वहीं चीन ने भी गलवन घाटी से एक किलोमीटर दूर एलएसी के पार अपने इलाके में सैन्य वाहनों और सैनिकों का जमावड़ा कर रखा है।

इसके अलावा गलवन घाटी पर दावा ठोकने की चालबाजी में लगी चीनी सेना के रुख के कारण लगातार तीसरे दिन भी बातचीत का कोई हल नहीं निकला। हालांकि बैठक के नतीजों को लेकर दोनों पक्षों की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया। भारत-चीन के सैन्य कमांडर स्तर की बैठक गुरुवार को भी गलवन घाटी के प्वाइंट-14 के करीब ही हुई जहां सोमवार की रात भीषण हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। सामरिक सूत्रों ने फिर बताया कि चीन भले इस घटना में अपने हताहतों की संख्या पर मुंह नहीं खोल रहा, मगर उसके करीब 45 सैनिक हताहत हुए हैं। इस बीच भारतीय सेना ने अमेरिकी अखबार की रिपोर्ट का खंडन करते हुए स्पष्ट किया है कि भारत का कोई सैनिक सोमवार की झड़प के बाद से लापता नहीं है।