भारतीय नौसेना का साहसी कदम, चीनी जहाज को अरब सागर में दिया करारा जवाब

नौसेना प्रमुख एडमिर करमबीर सिंह नौसेना दिवस के मौके पर दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने खुलासा किया कि, भारतीय नौसेना ने अपने विभिन्न अभियानों से 44 समुद्री डकैतों के प्रयासों को विफल किया है।

Written by: December 3, 2019 1:25 pm

नई दिल्ली। नौसेना प्रमुख एडमिर करमबीर सिंह नौसेना दिवस के मौके पर दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने खुलासा किया कि, भारतीय नौसेना ने अपने विभिन्न अभियानों से 44 समुद्री डकैतों के प्रयासों को विफल किया है। इसके साथ ही नैसेना ने 120 के करीब समुद्री डकैतों को अपने हिरासत में भी लिया है।

indian navy


जब उनसे पूछा गया कि चीनी जहाज शि यान 1 को भारतीय जल छोड़ने के लिए क्यों कहा गया था। तो उन्होंने कहा कि हमारा रुख यह है कि यदि आपको हमारे विशेष आर्थिक क्षेत्र में काम करना है, तो आपको हमारी अनुमति लेनी होगी।

indian navy

उत्तर-अरब सागर में चीन-पाकिस्तान नौसेना अभ्यास पर नौसेना प्रमुख ने कहा कि चीन और पाकिस्तान एक अभ्यास आयोजित करने वाले हैं और इस अभ्यास में भाग लेने के लिए उनके जहाजों को हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) में प्रवेश करना होगा।

indian navy

नौसेना प्रमुख ने कहा कि हम यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी रक्षा और सुरक्षा रख रहे हैं कि आतंकवादी समूहों (जैसे कि अलकायदा) से खतरे को कम किया जाए। मैं आश्वस्त करना चाहता हूं कि तटरक्षक और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के साथ नौसेना किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि रक्षा बजट में नौसेना की हिस्सेदारी में पिछले कुछ वर्षों में गिरावट आई है। 2012 में 18 प्रतिशत से यह 2018 में 12 प्रतिशत पर आ गया है। हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की उपस्थिति बढ़ रही है और हम इसे लगातार देख रहे हैं।

indian navy job vacancy

रक्षा बजट में नौसेना की हिस्सेदारी में पिछले कुछ वर्षों में गिरावट आई है। 2012 में 18 प्रतिशत से यह 2018 में 12 प्रतिशत पर आ गया है। हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की उपस्थिति बढ़ रही है और हम इसे लगातार देख रहे हैं। नौसेना की योजना लंबी अवधि में बेड़े में तीन विमान वाहक पोत रखने की है। उन्होंने कहा कि भारतीय नौसेना के 50 युद्धपोत और पनडुब्बियां निर्माणाधीन हैं, जिनमें से 48 भारतीय शिपयार्ड में हैं।

indian-navy-pla-indian-ocean-warship_1508899799

उन्होंने कहा कि नेवी चीफ के रूप में मुझे विश्वास है कि देश को तीन एयरक्राफ्ट कैरियर की जरूरत है ताकि दो हर समय चालू रहें। हमें लगता है कि यह विद्युत चुम्बकीय प्रणोदन के साथ 65,000 टन होना चाहिए।