पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम 14 दिन के लिए भेजे गए तिहाड़ जेल

खबर है कि उन्हें 7 नंबर जेल में रखा जाएगा। इस जेल में आर्थिक अपराध से जुड़े लोगों को रखा जाता है, चिदंबरम के बेटे कार्ति को भी जेल नंबर 7 में रखा गया था।

Written by: September 5, 2019 6:01 pm

नई दिल्ली। INX मीडिया केस की सुनवाई करते हुए दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट ने गुरुवार को 19 सितंबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। बता दें कि अब चिदंबरम 19 सितंबर तक दिल्ली की तिहाड़ जेल में रहेंगे। बता दें कि स्पेशल जज अजय कुमार कुहाड़ ने चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल की उस दलील को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि उनके मुवक्किल को न्यायिक हिरासत में नहीं भेजा जाना चाहिए।

CBI on chidambaram

सूत्रों की मानें तो जब चिदंबरम तिहाड़ आएंगे तो उन्हें आम कैदी की तरह ही जेल में रखा जाएगा। तिहाड़ जेल प्रशासन कोर्ट आर्डर का इंतजार कर रहा है, जिसके बाद तय होगा की उन्हें तिहाड़ जेल के किस वार्ड में रखा जाएगा। खबर है कि उन्हें 7 नंबर जेल में रखा जाएगा। इस जेल में आर्थिक अपराध से जुड़े लोगों को रखा जाता है, चिदंबरम के बेटे कार्ति को भी जेल नंबर 7 में रखा गया था।

इससे पहले केंद्रीय जांच ब्यूरो(CBI) ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में भेजने की अपील की थी, जिसपर पी. चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने इसका विरोध किया था। कपिल सिब्बल ने अदालत में कहा कि सीबीआई को बताना होगा कि पी. चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में भेजना क्यों जरूरी है?

गौरतलब है कि 2 दिन की सीबीआई कस्टडी खत्म होने के बाद एजेंसी ने चिदंबरम को गुरुवार को कोर्ट में पेश किया था। चिदंबरम की तरफ से उनके वकील सिब्बल ने कोर्ट से कहा, ‘जहां तक सीबीआई की बात है तो मुझे (पी. चिदंबरम) न्यायिक हिरासत में क्यों भेजा जाना चाहिए? उन्होंने (सीबीआई) सभी सवाल पूछ लिए हैं। मैं ईडी की कस्टडी में जाना चाहता हूं। मुझे न्यायिक हिरासत में नहीं भेजा जाना चाहिए।’

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कपिल सिब्बल की दलील पर विरोध जताया। उन्होंने कहा कि जब तक बेल याचिका पर सुनवाई नहीं होती, बहस गैरजरूरी है। कपिल सिब्बल ने कहा कि न्यायिक हिरासत के लिए रिमांड के लिए न्याय होना चहिए। रिमांड का ऑर्डर तथ्यों के आधार पर ही दिया जाना चाहिए। सिब्बल ने कहा कि सभी याचिका पर ठीक तरीके से सीबीआई की याचिका पर गौर फरमाया जाए।