साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ बयान देकर फंसे जावेद अख्तर

भोपाल से बीजेपी की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की तुलना रावण से करना जावेद अख्तर को भारी पड़ गया है। जावेद अख्तर के लिए बड़ी मुसीबत बन गया है साध्वी के खिलाफ दिया बयान। बता दें कि भोपाल में उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज किया गया है। जिसकी सुनवाई 24 मई को होगी।

Avatar Written by: May 7, 2019 2:14 pm

नई दिल्ली। भोपाल से बीजेपी की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की तुलना रावण से करना जावेद अख्तर को भारी पड़ गया है। जावेद अख्तर के लिए बड़ी मुसीबत बन गया है साध्वी के खिलाफ दिया बयान। बता दें कि भोपाल में उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज किया गया है। जिसकी सुनवाई 24 मई को होगी।

बता दें कि पिछले गुरुवार को जावेद अख्तर भोपाल गए थे। वहां एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने साध्वी प्रज्ञा की तुलना रावण से कर दी। जावेद अख्तर ने कहा था- उसके भेष पर मत जाओ। सिर्फ इसलिए कि एक व्यक्ति संत की तरह दिखता है इसका मतलब यह नहीं है कि वह व्यक्ति संत है। यह मत भूलिए कि जब रावण सीता का अपहरण करने के लिए आया था, तो वह भी एक संत की तरह कपड़े पहने था।’

जावेद अख्तर के इसी बयान पर भोपाल के रहने वाले एक वकील राजेश कंसुरिया ने मुकदमा दर्ज करवाया है। जावेद अख्तर इन दिनों अपने एक और बयान के लिए चर्चा में हैं। भोपाल में ही बीते गुरुवार को जावेद अख्तर ने कहा था कि ‘देश में बुर्का पहनने पर प्रतिबंध लगाने पर उन्‍हें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन केंद्र सरकार राजस्थान में 6 मई को होने वाले लोकसभा सीटों के लिए मतदान से पहले घूंघट प्रथा पर भी प्रतिबंध लगाए।’

बाद में जावेद अख्तर ने अपने इस बयान पर एक ट्वीट करते हुए अपनी बात रखी। उन्होंने ट्वीट किया कि, ‘कुछ लोग मेरे बयान को तोड़मरोड़कर पेश कर रहे हैं। मैंने कहा था कि शायद श्रीलंका में सुरक्षा कारणों से प्रतिबंध किया गया है, लेकिन बुर्के या घूंघट को प्रतिबंधित करना महिला सशक्तिकरण के लिए जरूरी है।’

जावेद अख्तर के इस बयान पर उनके बेटे फरहान अख्तर ने कहा है कि लोकतंत्र में हर किसी को अपनी बात रखने का अधिकार है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost