झारखंड में दूसरे चरण की वोटिंग से पहले भाजपा ने शुरू किया सफाई अभियान, असंतुष्टों को कहा “गेट आउट”

झारखंड विधानसभा चुनावों के पहले चरण के बाद बीजेपी ने सख्त रवैया अख्तियार किया है। पार्टी के भीतर रहकर पार्टी के अधिकृत उम्मीदवारों का विरोध करने वालों को बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है।

Written by: December 3, 2019 2:08 pm

नई दिल्ली। झारखंड विधानसभा चुनावों के पहले चरण के बाद बीजेपी ने सख्त रवैया अख्तियार किया है। पार्टी के भीतर रहकर पार्टी के अधिकृत उम्मीदवारों का विरोध करने वालों को बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। पार्टी में अनुशासन कायम रखने के उद्देश्य से भाजपा ने एलान कर दिया है कि जो नेता पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव मैदान में है, वह पार्टी से स्वतः निष्कासित माना जाएगा।

Raghubar Das and Narendra Modi

इस बारे में झारखंड के प्रदेश अध्यक्ष की ओर से निर्देश जारी कर दिया गया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है, , ‘भाजपा झारखंड प्रदेश के जो नेता विधान सभा चुनाव में पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव मैदान में हैं, या प्रत्याशी का सार्वजनिक तौर पर विरोध कर रहे हैं अथवा संगठन के निर्देश के विपरीत कार्य करते हुए पार्टी का अनुशासन तोड़ रहे हैं, वे पार्टी से स्वतः निष्कासित माने जाएंगे।’

bjp shivsena

बीजेपी झारखंड में अपनों की बगावत से जूझ रही है। भाजपा के राज्य में कैबिनेट मंत्री रहे सरयू राय झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ जमशेदपुर पूर्व से चुनाव लड़ रहे हैं, क्योंकि पार्टी ने उन्हें जमशेदपुर पश्चिम से टिकट नहीं दिया था।

saryu rai

पर सरजू राय अकेले ऐसे नेता नहीं हैं। उनके अलावा पार्टी का टिकट न मिलने पर पार्टी के मुख्य सचेतक रहे राधाकृष्ण किशोर भी आजसू पार्टी के टिकट पर छतरपुर सीट से चुनाव मैदान में उतरे हैं। इन सभी को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इसी प्रकार पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ताला मरांडी, पूर्व मंत्री बैजनाथ राम, बिमला प्रधान और विधायक फूलचंद मंडल भी दूसरे दलों के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं।