कमलेश तिवारी केस में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, यूपी के DGP ने तीन नामों का किया खुलासा

गुजरात एटीएस ने लखनऊ में हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड को सुलझाने का दावा किया है। इस सिलसिले में देर रात सूरत से 3 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया गया है। इन लोगों से पूछताछ की जा रही है।

Written by: October 19, 2019 9:17 am

नई दिल्ली। गुजरात एटीएस ने लखनऊ में हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड को सुलझाने का दावा किया है। इस सिलसिले में देर रात सूरत से 3 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया गया है। इन लोगों से पूछताछ की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक सीसीटीवी फुटेज और हत्या के वक्त इस्तेमाल किए गए मोबाइल को खंगाला जा रहा है ताकि और सुराग इकट्ठा किया जा सके। इसके अलावा अहमदाबाद, भरुच और सूरत से कुछ अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया गया है, इनसे पूछताछ जारी है। मामले में कमलेश तिवारी हत्याकांड की साजिश सूरत में रचे जाने की आशंका है।

Kamlesh Tiwari murder

अपडेट-

इस केस को लेकर उत्तर प्रदेश के DGP ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए कहा कि, “एक खास पोशाक पहनकर आए थे हमलावर। इसमें तीन अपराधियों को हिरासत में लिया गया है।” DGP ने कहा कि, “इस हत्या के तार गुजरात से जुड़े हुए हैं। इस केस में अभी तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जिसमें पहला राशिद पठान है, जो दर्जी है और कम्प्यूटर एक्सपर्ट भी है। इस साजिश को राशिद ने ही रचा था। दूसरा आरोपी मौलाना मोहसिन शेख सलीम(24 साल) है, जो एक साड़ी की दुकान पर काम करता था, और तीसरा फैजान(21 साल) है, जो सूरत का रहने वाला और वो एक जूते की दुकान पर काम करने वाला है। इन सभी यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया है।”

डीजीपी ने अपने बयान में कहा कि, “अभी तक जो जानकारी हमें मिल रही है उससे यही पता चल रहा है कि इस हत्या के पीछे की वजह 2015 में कमलेश तिवारी द्वारा दिया गया भड़काऊ बयान है। आरोपी कमलेश तिवारी के बयान से नाराज थे।” उन्होंने ये भी कहा कि इस हत्या का किसी आतंकी संगठन से कोई संबंध नहीं है। बता दें कि यूपी पुलिस ने दावा किया है कि कमलेश तिवारी हत्याकांड को 24 घंटे के अंदर सुलझा लिया गया है।

कमलेश तिवारी हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है। कमलेश तिवारी हत्याकांड को अंजाम देने वाले दो लोगों के नाम का खुलासा हो गया है। इसमें से एक शख्स का नाम फरीदुद्दीन पठान उर्फ मुईनुद्दीन शेख है। जबकि दूसरे शख्स का नाम अशफाक शेख है। हत्या के सीसीटीवी फुटेज में जो दो लोग दिख रहे हैं ये वही हैं। इन्हीं ने सूरत में मिठाई और चाकू खरीदा था और हत्या को अंजाम देने के लिए यूपी गए थे।

kamlesh tiwari Murder

गुजरात ATS ने इस मामले में जिन तीन लोगों को गिरफ्तार किया  है उनके नाम है शमीम पठान, फैजान पठान और मोहसिन शेख। मोहसिन शेख पेशे से मौलवी है।

गुजरात के सूरत के एक दुकान से मिठाई खरीद रहे संदिग्धों की तस्वीर सामने आई है। इस तस्वीर में दुकान के काउंटर पर दो युवक एक साथ दिख रहे हैं।

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनके रूम से सूरत घारी मिठाई का डब्बा मिला था। घारी सूरत की फेमस मिठाई है। इस डब्बे में आरोपियों ने हथियार लाए थे। बताया जा रहा है कि सूरत की धरती फुड एंड स्वीट दुकान से घारी मिठाई खरीदी गई थी। इस जानकारी के सामने आने के बाद सूरत पुलिस की टीम ने दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे को चेक भी किया था।

वहीं यूपी पुलिस ने कमलेश तिवारी हत्याकांड में बिजनौर से दो मौलाना गिरफ्तार किए गए हैं। पुलिस ने मौलाना अनवारुल हक को नगीना के आशियाना कॉलेनी से गिरफ्तार किया है। वहीं, मौलाना नईम कासनी को भी तड़के गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि 2015 में अनवारुलहक़ ने कमलेश तिवारी का सिर कलम करने वालों को 51 लाख के इनाम का ऐलान किया था।

इससे पहले एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया था जिसमें संदिग्ध आरोपी भगवा कपड़ा पहने हुए जाते दिखाई दे रहे हैं। इस वीडियो में 2 लोगों के साथ एक महिला भी दिखाई दे रही है। इनके हाथ में जो पैकेट दिखाई दे रहा है वैसा ही पैकेट कमलेश तिवारी के ऑफिस में दिखा था।

बता दें कि लखनऊ में हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या से बवाल मचा हुआ है। परिवार ने सरकार से 5 करोड़ का मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी की मांग की है। परिवार का कहना है कि जब तक मांग पूरी नहीं हो जाती वो अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।