कारगिल: सरकारी अधिकारियों को एडवाइजरी जारी- न छोड़ें दफ्तर, फोन रखें ऑन

जम्मू-कश्मीर में अब कारगिल में सरकारी अधिकारियों के लिए एडवाइजरी जारी की गई है, जिसमें कहा गया है कि अधिकारी ऑफिस ना छोड़ें और साथ ही अपने फोन को स्वीच ऑफ ना करने के भी आदेश दिया गया है।

Written by: August 4, 2019 9:02 am

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में अब कारगिल में सरकारी अधिकारियों के लिए एडवाइजरी जारी की गई है, जिसमें कहा गया है कि अधिकारी ऑफिस ना छोड़ें और साथ ही अपने फोन को स्वीच ऑफ ना करने के भी आदेश दिया गया है। सूत्रों का कहना है कि, कारगिल में भी पाकिस्तान के साथ सीमा तनाव बढ़ सकता है।

Jammu Kashmir Encounter

इसके अलावा फोन को स्वीच ऑफ न करने के लिए भी कहा गया है। इससे पहले सुरक्षा का हवाला देते हुए एडवाइजरी जारी की गई थी और अमरनाथ यात्रा को रोक दिया गया था।

बता दें कि अमरनाथ यात्रा को लेकर इंटेलीजेंस इनपुट के हवाले से आतंकवादी खतरे की बात कहते हुए जम्मू-कश्मीर सरकार ने शुक्रवार को एक एडवाइजरी जारी की। इसमें तीर्थयात्रियों को घाटी से जल्द से जल्द लौटने की सलाह दी गई है।

jammu kashmir

जम्मू-कश्मीर के गृह विभाग ने यह एडवाइजरी जारी की है। यात्रा को लेकर शीर्ष सुरक्षा प्रतिष्ठान ने कहा कि इस तरह के इनपुट है कि यात्रा को पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाया जा सकता है।

एडवाइजरी में कहा गया, “आतंकवादी धमकी के नवीनतम इंटेलीजेंस इनपुट खास तौर से अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाए जाने और कश्मीर घाटी के सुरक्षा हालात को ध्यान में रखते हुए अमरनाथ यात्रियों व पर्यटकों की सुरक्षा के हित में यह सुझाव दिया जाता है कि तीर्थयात्री घाटी से जल्द से जल्द लौटें।”

 

Baltal Amarnath Yatra

अमरनाथ यात्रा एक जुलाई से शुरू हुई और यह 15 अगस्त को समाप्त होनी है। इंटेलीजेंस इनपुट के मद्देनजर कश्मीर में पहले हजारों की संख्या में अर्धसैनिक बल पहुंच चुके हैं। इंटेलीजेंस इनपुट में यात्रा को आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाने की बात कही गई है। इससे पहले दिन में सेना ने कहा कि इस तरह के इंटेलीजेंस इनपुट है कि पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी यात्रियों को निशाना बनाने की योजना बना रहे हैं।