भारतीय श्रद्धालुओं के लिए 9 नवंबर को खुलेगा करतारपुर कॉरिडोर

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉक्टर मोहम्मद फैसल ने कहा था कि पाकिस्तान सरकार करतारपुर कॉरिडोर आने वाले प्रत्येक व्यक्ति से सुविधा शुल्क लेगी। यह रकम 20 यूएस डॉलर के बराबर होगी।

Written by: September 16, 2019 8:26 pm

नई दिल्ली। पाकिस्तान के एक अधिकारी ने ऐलान करते हुए बताया कि 9 नवंबर से करतारपुर कॉरिडोर भारतीय सिख तीर्थयात्रियों के खोल दिया जाएगा। परियोजना निदेशक आतिफ माजिद ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि कॉरिडोर पर अब तक 86 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है और इसे 9 नवंबर को खोला जाएगा।

kartarpur

लाहौर से लगभग 125 किलोमीटर दूर नरोवाल में प्रस्तावित करतारपुर कॉरिडोर के लिए स्थानीय और विदेशी पत्रकारों की पहली यात्रा के दौरान इसकी घोषणा की गई। बता दें कि यह गलियारा पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब और भारत के गुरदासपुर में डेरा बाबा नानक साहिब को जोड़ेगा। करतारपुर साहिब गुरुद्वारा की स्थापना सिखों के संस्थापक गुरु गुरुनानक देव जी ने 1522 में की थी। इससे भारतीय श्रद्धालुओं को बिना वीजा के सिर्फ परमिट हासिल कर आवाजाही की सुविधा मिलेगी।

फाइल फोटो

इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉक्टर मोहम्मद फैसल ने कहा था कि पाकिस्तान सरकार करतारपुर कॉरिडोर आने वाले प्रत्येक व्यक्ति से सुविधा शुल्क लेगी। यह रकम 20 यूएस डॉलर के बराबर होगी। पाकिस्तान ने भारत के सामने पहले भी तीसरे चरण की बैठक के दौरान यह मांग रखी थी।

इस सुविधा शुल्क का पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा विरोध किया गया था। पीएम मोदी को लिखे पत्र में अमरिंदर सिंह ने सुझाव दिया कि विदेश मंत्रालय इस मामले को द्विपक्षीय बैठकों में उठाए। उन्होंने कहा कि सेवा शुल्क के बारे में पाकिस्तान की जिद से लाखों तीर्थयात्रियों पर बहुत अधिक वित्तीय बोझ पड़ेगा।