जानिए क्या है, SPG सुरक्षा और ये Z+,Z,Y और X कैटेगरी से कितनी अलग है?

देश में सबसे उच्चतम स्तर की सुरक्षा है एसपीजी है जो अब सिर्फ देश के प्रधानमंत्री को मिलेगी। विशेष सुरक्षा दल का गठन साल 1988 में किया गया था और इसमें देश के जांबाज जवानों को शामिल किया जाता है।

Written by: November 8, 2019 4:17 pm

नई दिल्ली। कुछ दिनों पहले भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से SPG(Special Protection Group) सुरक्षा हटा ली गई थी। अब बारत सरकार ने गांधी परिवार से भी एसपीजी सुरक्षा को हटाने का निर्णय लिया है और अब उन्हों Z+ सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। आपको बता दे, देशभर में मौजूद अलग-अलग VIP लोगों को अलग-अलग सुरक्षा दी जाती है और इसमें अलग-अलग कैटेगरी होती है। SPG, Z+, Z, Y और X।

SPG

क्या है SPG सुरक्षा?

देश में सबसे उच्चतम स्तर की सुरक्षा है एसपीजी है जो अब सिर्फ देश के प्रधानमंत्री को मिलेगी। विशेष सुरक्षा दल का गठन साल 1988 में किया गया था और इसमें देश के जांबाज जवानों को शामिल किया जाता है।

यह केंद्र का विशेष सुरक्षाबलों में से एक है। इन जवानों का चयन पुलिस, पैरामिलिट्री फोर्स (BSF, CISF, ITBP, CRPF) से किया जाता है। यह बल गृह मंत्रालय के अधीन है। SPG देश की सबसे पेशेवर एवं आधुनिकतम सुरक्षा बलों में से एक है।

SPG Commando

ये जवान एक फुली ऑटोमेटिक गन FNF-2000 असॉल्ट राइफल से लैस होते हैं। कमांडोज के पास ग्लोक 17 नाम की एक पिस्टल भी होती है। कमांडो अपनी सेफ्टी के लिए एक लाइट वेट बुलेटप्रूफ जैकेट भी पहनते हैं। SPG के जवान अपने आंखों पर एक विशेष चश्मा पहने रहते थे। इससे उनकी आखों को हमले से बचाया जाता है साथ ही वह किसी भी प्रकार का डिस्ट्रैक्शन नहीं होने देता हैं। आखिर में बता दें कि SPG एक हमलावर फोर्स नहीं बल्कि रक्षात्मक फोर्स है।

क्या है Z+ सुरक्षा

Z+ Security

जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा देश की स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप के बाद दूसरे नंबर की सबसे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है। इस सुरक्षा व्यवस्था में 55 सुरक्षा कर्मी सुरक्षा के लिए मौजूद होते हैं। 55 लोगों में 10 से ज्यादा एनएसजी कमांडो होते हैं। इसके अलावा पुलिस ऑफिसर होते हैं। इस सुरक्षा में पहले घेरे की ज़िम्मेदारी एनएसजी की होती है जबकि दूसरी परत एसपीजी कमांडो की होती है। इसके अलावा आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान भी ज़ेड प्लस सुरक्षा श्रेणी में शामिल रहते हैं। साथ ही Z+ सुरक्षा में एस्कॉर्ट्स और पायलट वाहन भी दिए जाते हैं।

Z श्रेणी की सुरक्षा

z Security

जेड श्रेणी की सुरक्षा में चार से पांच एनएसजी कमांडो सहित कुल 22 सुरक्षागार्ड तैनात होते हैं। इसमें दिल्ली पुलिस, आईटीबीपी या सीआरपीएफ के कमांडो व स्थानीय पुलिसकर्मी भी शामिल होते हैं।

Y श्रेणी की सुरक्षा

Y Security

यह सुरक्षा का तीसरा स्तर होता है। कम खतरे वाले लोगों को यह सुरक्षा दी जाती है। इसमें कुल 11 सुरक्षाकर्मी शामिल होते हैं। जिसमें दो कमांडो तैनात होता है।

X श्रेणी की सुरक्षा

X Security

इस श्रेणी में दो सुरक्षा गार्ड तैनात होते हैं। जिसमें एक पीएसओ (व्यक्तिगत सुरक्षा अधिकारी) होता है। देश में काफी लोगों को एक्स श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है। इस सुरक्षा में कोई कमांडो शामिल नहीं होता।