कुमारस्वामी कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करने को तैयार

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने शुक्रवार को कहा कि जनता दल (सेकुलर)-कांग्रेस की गठबंधन सरकार के पास विधानसभा में बहुमत है और वह विश्वास मत साबित करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। 

Written by Newsroom Staff July 12, 2019 7:40 pm

बेंगलुरू। कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने शुक्रवार को कहा कि जनता दल (सेकुलर)-कांग्रेस की गठबंधन सरकार के पास विधानसभा में बहुमत है और वह विश्वास मत साबित करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।
kumarswamy

विधानसभा के 10 दिवसीय मॉनसून सत्र के शुरू होने के साथ ही कुमारस्वामी ने राज्य विधानसभा के अध्यक्ष के.आर. रमेश कुमार से कहा, “मेरी सरकार के पास बहुमत है, मैं विश्वास मत साबित करने के लिए तैयार हूं। मेरा आप से निवेदन है कि इस बाबत एक तिथि और समय तय करें।” कुमारस्वामी ने कहा कि यदि भाजपा विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव लाती है, तो वह शक्ति प्रदर्शन के लिए तैयार हैं।
HD Kumarswamy

कुमारस्वामी ने कहा, “हमारे कुछ विधायकों द्वारा इस्तीफा देने के कारण बनी मौजूदा राजनीतिक स्थिति के मद्देनजर फ्लोर टेस्ट के बाद मैं मुख्यमंत्री के रूप में अपना कार्यकाल जारी रख सकता हूं।”

कुमारस्वामी का यह बयान उस वक्त आया है, जब सर्वोच्च न्यायालय ने विधानसभा अध्यक्ष को कांग्रेस और जद-(एस) के 10 बागी विधायकों के इस्तीफे के बारे में फैसला करने के लिए मंगलवार (16 जुलाई) तक का समय दिया है।

10 बागी विधायकों में से सात कांग्रेस और तीन जद-(स) के हैं, जिन्होंने शीर्ष न्यायालय में 10 जुलाई को एक याचिका दायर कर कहा कि वह सभी विधानसभा अध्यक्ष को 6 जुलाई को अपना इस्तीफा सौंप चुके हैं लेकिन वह इस पर कार्रवाई करने में जानबूझ कर देरी कर रहे हैं।

हालांकि, अध्यक्ष ने कहा कि उनके कार्यालय को प्राप्त हुए 13 इस्तीफों में से आठ निर्धारित प्रारूप में नहीं थे और वह चाहते थे कि उन्हें 11 जुलाई तक फिर से प्रस्तुत किया जाए। बागी विधायकों ने गुरुवार को उन्हें फिर से इस्तीफा सौंप दिया। शेष पांच विधायकों के इस्तीफे क्रम में थे इसलिए अध्यक्ष ने उनमें से तीन को 12 जुलाई (शुक्रवार) को मिलने के लिए कहा।
kumarswamy

इसके अलावा यह सुनिश्चित करने के लिए कि दो अन्य विधायकों ने अपनी विधानसभा सीटों से स्वेच्छा से और वास्तव में इस्तीफा दे दिया है, वह 15 जुलाई को उन्हें सुनने के लिए सहमत हो गए हैं। इस्तीफा दे चुके कांग्रेस के छह और विधायक विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ शीर्ष अदालत में नहीं गए।