लोकसभा की पहली पंक्ति में नहीं मिलेगी राहुल गांधी को जगह, जानिए क्यों

सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस को अपोजिशन बेंच की पहली लाइन में दो सीटें मिली हैं। वहीं, इसकी सहयोगी और दूसरी बड़ी विपक्षी पार्टी डीएमके को कांग्रेसी नेताओं के बगल में एक सीट मिली है।

Written by: July 9, 2019 12:08 pm

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और अपने इस्तीफे की वजह से चर्चा में बने हुए राहुल गांधी के लिए एक और बुरी खबर आई है और अब वो लोकसभा में विपक्षी लाइन की पहली पंक्ति में बैठते नजर नहीं आएंगे। वैसे तो राहुल गांधी अपनी मां और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी के बगल में बैठते थे। लेकिन अब वो दूसरी पंक्ति में बैठते नजर आएंगे।

rahul

स्पीकर के कार्यालय से इंडिविजुअल सीट के औपचारिक बंटवारे के हिसाब से अब उन्हें दूसरी लाइन में बैठने की जगह दी जा सकती है। वहीं, सोनिया गांधी ने संसदीय दलों की सहमति से संसद की पब्लिक अकाउंट्स कमिटी (PAC) के अध्यक्ष पद के लिए अधीर रंजन चौधरी का नाम केंद्र सरकार और स्पीकर के पास भेजा है। चौधरी लोकसभा में पार्टी के नेता हैं।

rahul 1

सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस को अपोजिशन बेंच की पहली लाइन में दो सीटें मिली हैं। वहीं, इसकी सहयोगी और दूसरी बड़ी विपक्षी पार्टी डीएमके को कांग्रेसी नेताओं के बगल में एक सीट मिली है। ऐसे में साफ है कि कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी, सदन में पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी और डीएमके नेता टी आर बालू विपक्षी बेंच की पहली लाइन की तीन सीटों पर बैठेंगे।

rahul 2

बता दें कि स्पीकर सरकार और विपक्षी नेताओं से मिलकर पीएसी चेयरमैन के नाम की आधिकारिक घोषणा करते हैं। परंपरागत तौर पर पीएसी चेयरमैन का पद प्रमुख विपक्षी दल को मिलता रहा है। इसलिए इस बार भी ये पद कांग्रेस को मिला। पिछली लोकसभा में के वी थॉमस का कार्यकाल खत्म होने के बाद यह पद कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को मिला था।