फ्लाइट हो गई कैंसिल, नहीं मिली मदद तो आगे आए भाजपा के शिवप्रकाश

दिल्ली एयरपोर्ट से भी 82 के करीब उड़ानों के कैंसिल होने की सूचना मिली। इसमें से अलग-अलग राज्यों के लिए उड़ाने कैंसिल की गईं। पंजाब के फगवाड़ा में स्थित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के 32 बच्चे भी इसी वजह से एयरपोर्ट पर फंस गए।

Avatar Written by: May 26, 2020 4:54 pm

नई दिल्ली। पूरे देश में बंद पड़ी घरेलू उड़ानों को 25 मई से फिर से शुरू तो करा दिया गया लेकिन कुछ कारण बस ढेर सारी उड़ानें इस दिन कैंसिल कर दी गईं। जिसकी वजह से एयरपोर्ट पर पहुंचे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इसकी एक विशेष वजह रही कि राज्यों ने अपने यहां से उड़ानों की सीमा निर्धारित कर दी थी जिसके बाद अथॉरिटी को ऐसा फैसला लेना पड़ा।

BJP Shivprakash

दिल्ली एयरपोर्ट से भी 82 के करीब उड़ानों के कैंसिल होने की सूचना मिली। इसमें से अलग-अलग राज्यों के लिए उड़ाने कैंसिल की गईं। पंजाब के फगवाड़ा में स्थित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के 32 बच्चे भी इसी वजह से एयरपोर्ट पर फंस गए। उन्हें एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद इस बात की सूचना मिली की उनकी फ्लाइट कैंसिल हो गई है। इसमें से 19 बच्चे पश्चिम बंगाल के 11 बच्चे त्रिपुरा के और असम एवं नागालैंड के एक-एक बच्चे थे। ये छात्र 25 मई को दिल्ली एयरपोर्ट अपने यूनिवर्सिटी कैंपस से बस के जरिए पहुंचे थे।

लेकिन फ्लाइट कैंसिल होने की सूचना के बाद इनके लिए मुसीबत ज्यादा बड़ी हो गई। इन छात्रों को यह समझ में नहीं आ रहा था कि वह अब आगे क्या करें।

इसके बाद इनकी यूनिवर्सिटी की तरफ से संबंधित विभाग को पत्र लिखकर इन छात्रों को दिल्ली स्थित उनके राज्य भवनों में रहने और खाने-पीने की व्यवस्था करने का अनुरोध किया गया। त्रिपुरा, असम और नागालैंड के बच्चों के लिए तो जगह मुहैया करा दी गई लेकिन पश्चिम बंगाल के बच्चे पूरे दिन इसी बात का इंतजार करते रहे कि उनके रहने और खाने की व्यवस्था के लिए भी दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार या फिर पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार द्वारा जल्द आदेशित किया जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।

यूनिवर्सिटी की तरफ से इसको लेकर एक मेल भी इन दोनों राज्य सरकारों को लिखा गया था और उनसे उचित व्यवस्था मुहैया कराने का अनुरोध किया गया था लेकिन जवाब कुछ भी नहीं मिला। अंत में ये बच्चे वापस अपने विश्वविद्यालय की तरफ बस से रवाना हो गए।

इस बात की जानकारी भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश को चली तो उन्होंने पता लगाने की कोशिश की कि विश्वविद्यालय की तरफ वापसी कर रहे छात्रों की बस कहां तक पहुंची है। छात्रों को लेकर उनकी बस हरियाणा के सोनीपत पहुंच गई थी। शिवप्रकाश ने तुरंत इस मामले को अपने संज्ञान में लेते हुए सोनीपत में इन छात्रों के रूकने का पूरा इंतजाम किया। वहां इन छात्रों के रूकने और खाने की उचित व्यवस्था उनके द्वारा कराई गई। जिसके बाद छात्र काफी निश्चिंत नजर आ रहे थे।

BJP Shivprakash

अरविंद केजरीवाल सरकार और ममता बनर्जी सरकार के उदासीन रवैये का नतीजा था कि इन छात्रों को इस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ा लेकिन भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश ने छात्रों की इस परेशानी को समझते हुए तुरंत इस पर ठोस कदम उठाए और इनकी मदद की।