मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रभारी दीपक बावरिया अपने नेताओं के रवैये से हुए परेशान, जताई चिंता

इस स्थिति पर कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने चिंता जताई, साथ ही उन्होंने मंत्रियों और नेताओं को चेतावनी दी कि वे कार्यकर्ताओं की उपेक्षा न करें।

Written by: September 20, 2019 8:28 pm

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस को सत्ता में आए नौ माह से ज्यादा का वक्त गुजर गया है, मगर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं हो रही है। भाजपा नेता कांग्रेस की सत्ता में पद हासिल कर रहे हैं।

deepak

इस स्थिति पर कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने चिंता जताई, साथ ही उन्होंने मंत्रियों और नेताओं को चेतावनी दी कि वे कार्यकर्ताओं की उपेक्षा न करें।

MP

देश में छाई आर्थिक मंदी, महंगाई और बेरोजगारी को लेकर मोदी सरकार के विरुद्घ आंदोलन व प्रदर्शन करने की रणनीति, महात्मा गांधी की 150वीं जयंती और राजीव गांधी की 75वीं जयंती आदि विषयों पर कार्यक्रमों की रूपरेखा तय करने के लिए बुलाई गई कांग्रेस नेताओं की बैठक में प्रदेश प्रभारी बावरिया के तेवर तल्ख रहे।

MP 1

सूत्रों के अनुसार, बावरिया ने एक नेता द्वारा भाजपा के पूर्व नेता को कांग्रेस में बड़ी जिम्मेदारी सौंपने की सिफारिश किए जाने का मामला उठाया। उन्होंने कहा, “यह ठीक नहीं है।

kamalnath

उन्होंने आगे कहा कि, कई मंत्री ऐसे हैं, जो कार्यकर्ताओं के फोन नहीं उठाते हैं। ऐसे लोग अपने रवैए को बदल लें। ऐसा नहीं हुआ तो उन्हें मंत्री पद छोड़ने के लिए तैयार रहना चाहिए।” इस मौके पर राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ सहित अन्य नेता भी उपस्थित थे।