मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित कर सकता है संयुक्त राष्ट्र, भारत के दबाव में चीन को करना पड़ेगा ऐसा

पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर के मामले में आज जहां भारत को एक बड़ी सफलता मिल सकती है, वहीं चीन को तगड़ा झटका लग सकता है। मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र आज पुलवामा आतंकी हमलों के जिम्मेदार जैश चीफ को ग्लोबल आतंकी घोषित कर सकता है।

Written by: May 1, 2019 10:00 am

नई दिल्ली। पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर के मामले में आज जहां भारत को एक बड़ी सफलता मिल सकती है, वहीं चीन को तगड़ा झटका लग सकता है। मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र आज पुलवामा आतंकी हमलों के जिम्मेदार जैश चीफ को ग्लोबल आतंकी घोषित कर सकता है।

वहीं, अभी तक इस मामले को लेकर वीटो का इस्तेमाल करता आया चीन अपने कदम पीछे खींच सकता है। आपको बता दें कि भारत पिछले काफी समय से मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करवाने के लिए जुटा हुआ था। यदि आज मसूद पर बैन लगता है तो यह कूटनीतिक स्तर पर भारत के लिए बड़ी कामयाबी होगी। इससे पहले आतंकी मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के भारत के प्रयासों में रोड़ा अटका रहे चीन के रुख में नरमी के संकेत मिले थे। चीन ने मंगलवार को कहा था कि वह मसूद अजहर के मामले को उचित रूप से हल करेगा, लेकिन इसके लिए चीन की तरफ से कोई समय-सीमा नहीं दी गई थी।

india china flag

आपको बता दें कि अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की तरफ से अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने को लेकर संयुक्त रूप से प्रस्ताव पेश किया गया था, जिसके बाद चीन पर खासा दबाव था। इससे पहले चीन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में 4 बार इस मामले में रोड़ा अटका चुका था। मार्च महीने जब मसूद अजहर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने का प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में आया तो चीन ने इस मामले को टेक्निकल होल्ड पर डालकर भारत के प्रयासों पर पानी फेर दिया। भारत ने पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों की शहादत के बाद यह कोशिश की थी।

Masood-Azhar

मसूद अजहर को यदि संयुक्त राष्ट्र ग्लोबल आतंकी घोषित करता है तो दुनियाभर के देशों में उसकी एंट्री पर बैन लग जाएगा। इसके साथ ही वह दुनिया के किसी भी देश में आर्थिक गतिविधियां नहीं कर सकेगा। वहीं, संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों को मसूद के बैंक अकाउंट्स और प्रॉपर्टी को फ्रीज करना पड़ेगा। मसूद अजहर से संबंधित व्यक्तियों या उसकी संस्थाओं को कोई मदद भी नहीं मिल सकेगी। इन सबके अलावा अभी तक इस खतरनाक आतंकी को पाल रहे पाकिस्तान को भी उसके खिलाफ आर्थिक प्रतिबंध लगाने पड़ेंगे और उसके टेरर कैंपों के साथ-साथ उसके मदरसों को भी बंद करना पड़ेगा।