पहलू खान के मामले में बुरी तरह घिर गईं प्रियंका गांधी, मायावती ने दिखाया आईना

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बयान दिया था कि पहलू खान मामले में लोअर कोर्ट का फैसला चौंका देने वाला है। हमारे देश में अमानवीयता की कोई जगह नहीं होनी चाहिए और भीड़ द्वारा हत्या एक जघन्य अपराध है।

Written by: August 16, 2019 1:07 pm

नई दिल्ली। पहलू खान की मॉब लिचिंग के मामले में प्रियंका गांधी का बयान अब उन पर ही भारी पड़ने लगा है। प्रियंका गांधी ने इस मामले में सभी आरोपियों को बरी करने के फैसले की आलोचना की और दूसरी ओर इस मामले में राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार की तारीफ भी कर डाली। अब लोग उनसे पूछ रहे हैं कि राजस्थान में सरकार किसकी है? मायावती ने साफ तौर पर इस फैसले के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहरा दिया।

इससे पहले इस मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बयान दिया था कि पहलू खान मामले में लोअर कोर्ट का फैसला चौंका देने वाला है। हमारे देश में अमानवीयता की कोई जगह नहीं होनी चाहिए और भीड़ द्वारा हत्या एक जघन्य अपराध है। मगर प्रियंका ने राजस्थान पुलिस की जांच पर कोई टिप्पणी नही की जो उनकी ही पार्टी की सरकार के दायरे में काम करती है। अब प्रियंका गांधी से इस मामले में राजस्थान की सरकार और पुलिस की निष्क्रियता को लेकर सवाल पूछे जा रहे हैं।

बीएसपी प्रमुख मायावती ने इस मामले में कांग्रेस पर सीधा हमला करते हुए लिखा, “राजस्थान कांग्रेस सरकार की घोर लापरवाही व निष्क्रियता के कारण बहुचर्चित पहलू खान माब लिंचिंग मामले में सभी 6 आरोपी वहाँ की निचली अदालत से बरी हो गए, यह अति दुर्भाग्यपूर्ण है। पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के मामले में वहाँ की सरकार अगर सतर्क रहती तो क्या यह संभव था, शायद कभी नहीं।” मायावती का ये सवाल सीधे तौर पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को आईना दिखाने की कोशिश है।

पहलू खान मामले में कुल 9 आरोपी थे। इनमें से 3 आरोपी नाबालिग थे। बुधवार को अदालत ने इनमें से 6 आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए निर्दोष करार दिया था। अदालत ने अपने आदेश में वीडियो फुटेज को सबूत नहीं माना था। अहम बात यह भी थी कि कोर्ट ने अपने आर्डर में कहा था कि पुलिस ने वीडियो फुटेज की एफएसएल जांच नहीं कराई। साथ ही पहलू खान के बेटे आरोपियों की पहचान नहीं कर सके थे। इन्हीं आधारों पर कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया था।

यही वजह है कि इस मामले में पुलिस की भूमिका पर गंभीर सवाल उठाए जा रहे हैँ। पहलू खान की एक अप्रैल, 2017 को हरियाणा के नूहं मेवात जिले के निवासी पहलू खान को गो तस्करी के आरोप में बुरी तरह पीटा गया था जिसके चलते उनकी मौत हो गई थी।