एडवाइजरी पर महबूबा के ठंडे पड़े तेवर- कहा इस्‍लाम में हाथ जोड़ना हराम है, लेकिन फ‍िर भी हाथ जोड़कर कहती हूं…

इस एडवाइजरी के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने ऐतराज जताया है। उन्‍होंने कहा है कि इससे डर का माहौल बना है।

Written by: August 3, 2019 12:23 pm

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर सरकार द्वारा एडवाइजरी जारी किये जाने के बाद अफरातफरी का माहौल है। प्रशासन की ओर से कहा गया है कि यात्रा समय से पहले खत्‍म की जा सकती है। जो लोग घाटी में हैं, वह वापस लौटें। इस एडवाइजरी के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने ऐतराज जताया है। उन्‍होंने कहा है कि इससे डर का माहौल बना है।

Jammu Leader

महबूबा मुफ्ती ने कहा, इस्‍लाम में हाथ जोड़ना हराम है, लेकिन फिर भी मैं हाथ जोड़कर सरकार से कहती हूं कि कश्‍मीरियों से उनकी पहचान मत छीनिए। पीडीपी की मुखिया महबूबा मुफ्ती ने इस एडवाइजरी के बाद रात 9 बजे श्रीनगर में एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की। उन्‍होंने कहा, मैंने 70 साल में घाटी में डर और भय का ऐसा माहौल नहीं देखा। प्रशासन की इस एडवाइजरी ने घाटी में डर का माहौल बना दिया है। महबूबा ने कहा, जैसा डर अभी फैला है, वैसा उन्‍होंने कभी नहीं देखा। एक तरफ राज्‍यपाल कह रहे हैं कि यहां पर हालात सामान्‍य हैं, वहीं दूसरी केंद्र सरकार यहां पर लगातार सैनिकों की संख्‍या बढ़ा रही है।

Mehbooba Mufti

प्रधानमंत्री कहते हैं कि हम कश्‍मीरियों का दिल जीतेंगे। लेकिन इस तरह की अफवाहों का यहां क्‍या काम। आपके यात्री तो वापस चले जाएंगे, लेकिन जम्‍मू- कश्‍मीर के लोग कहां जाएंगे।

Mehbooba Mufti

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि एडवाइजरी के सिलसिले में राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मिलीं। राज्यपाल ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि वो एडवाइजरी के संबंध में नई दिल्ली से बात करेंगे और सभी शंकाओं का समाधान करेंगे। ये हो सकता है कि वो इस संबंध में कोई बयान भी जारी करें।