मुलायम ने प्रेस कांफ्रेंस कर किया आजम खान का बचाव, कहा- चंदा मांगकर आजम ने बनवाई जौहर यूनिवर्सिटी

गौरतलब है कि आजम खान और मुलायम सिंह यादव के बीच करीब 30 साल से भी पुरानी दोस्ती हैं, 1992 में जब मुलायम ने जनता दल से नाता तोड़ कर समाजवादी पार्टी का गठन किया था तो आजम खान मजबूती से उनके साथ खड़े रहे थे।

Avatar Written by: September 3, 2019 2:53 pm

नई दिल्ली। योगी सरकार में आजम खान की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं, आए दिन उनपर केस दर्ज होते जा रहे हैं, ऐसे में अब समाजवादी पार्टी के संरक्षक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव खुद आजम खान के बचाव में सामने आ गए हैं। बता दें कि करीब दो साल बाद मुलायम सिंह यादव ने प्रेस कांफ्रेंस कर योगी सरकार पर निशाना साधा।

गौरतलब है कि आजम खान और मुलायम सिंह यादव के बीच करीब 30 साल से भी पुरानी दोस्ती हैं, 1992 में जब मुलायम ने जनता दल से नाता तोड़ कर समाजवादी पार्टी का गठन किया था तो आजम खान मजबूती से उनके साथ खड़े रहे थे। इसी दोस्ती का असर है कि मुलायम को आजम खान के बचाव में आना पड़ा है।

आजम के बचाव में मीडिया से बात करते हुए मुलायम सिंह यादव ने कहा कि योगी सरकार बदले की भावना से कार्रवाई कर रही है। मुलायम ने कहा कि योगी सरकार की तरफ से आजम खान पर गलत तरीके से केस दर्ज कराया गया है।

आजम का पक्ष लेते हुए उन्होंने कहा कि ‘आजम खान ने चंदा मांग कर जौहर विश्वविद्यालय का निर्माण कराया है। इसमें मेरा और मेरे साथियों का भी सहयोग रहा है। सवाल ये है कि दो बीघा जमीन के लिए आजम खान पर 27 केस क्यों दर्ज किए गए हैं।’ उन्होंने कहा ‘मैं सपा नेताओं से बात करके आंदोलन की रूपरेखा तैयार करूंगा। जरूरत पड़ी तो प्रधानमंत्री मोदी से भी मिलूंगा। हम आजम खान पर जुल्म बर्दाश्त नही करेंगे। हम आजम के पक्ष में हैं और रहेंगे। सरकार आजम खां को अपमानित करना बंद करे।’

azam khan

 

मुलायम ने आजम खान के बारे में कहा कि, ‘आजम संघर्ष करके निकले हैं। उन्होंने विधायक कोटे की राशि भी विश्वविद्यालय में लगा दी है।’ समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं से अपील करते हुए मुलायम ने कहा कि ‘जिस प्रकार से आजम खान को अपमानित किया जा रहा है, उसके खिलाफ सभी तैयार हो जाएं। पूरे प्रदेश में आंदोलन होगा और इस आंदोलन की अगुवाई मैं स्वयं करूंगा। मुझ पर भी तमाम झूठे मुकदमे लगाए गए थे। जिसके चलते मैं एक दर्जन जेलों में रहा हूं।’

दरअसल आजम खान को सपा का ‘दुलारा नेता’ बताया जाता है, कहा जाता है कि आजम खान सपा के लिए मुस्लिम वोटों का जुगाड़ करते हैं, और इसी के चलते मुलायम सिंह यादव को भी आजम का बचाव करने के लिए मैदान में उतरना पड़ा।

बता दें कि आजम खान के ऊपर भू-माफिया का टैग लग चुका है और इसके साथ ही उनके खिलाफ 76 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। हालत ये है कि आजम पर गिरफ्तारी का खतरा मंडरा रहा है। फिलहाल समाजवादी पार्टी को आजम खान की मुश्किलों को भी संभालना होगा, ऐसे में कमान मुलायम सिंह यादव के हाथों में है, मायावती के धोखे और चुनावी हार के गम से कराह रही समाजवादी पार्टी आजम खान के इन मुश्किलों से कैसे निपटेगी, वक्त आने पर साफ हो जाएगा।