‘कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री’ वाले उमर अब्दुल्ला के बयान पर पीएम मोदी ने किया पलटवार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल कान्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला पर कश्मीर के लिए अलग प्रधानमंत्री की कथित रूप से वकालत करने वाली उनकी टिप्पणी को लेकर सोमवार को निशाना साधा और कांग्रेस और महागठबंधन की पार्टियों के नेताओं से कहा कि वे इस पर अपना रुख स्पष्ट करें।

Avatar Written by: April 2, 2019 8:36 am

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल कान्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला पर कश्मीर के लिए अलग प्रधानमंत्री की कथित रूप से वकालत करने वाली उनकी टिप्पणी को लेकर सोमवार को निशाना साधा और कांग्रेस और महागठबंधन की पार्टियों के नेताओं से कहा कि वे इस पर अपना रुख स्पष्ट करें। पीएम मोदी ने यहां एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि उमर अब्दुल्ला ने कहा है कि कश्मीर के लिए एक अलग प्रधानमंत्री होना चाहिए।

Narendra Modi and Omar Abdullah

उन्होंने सवाल किया, ‘‘हिंदुस्तान के लिए दो प्रधानमंत्री? क्या आप इससे सहमत हैं? कांग्रेस को जवाब देना होगा और महागठबंधन के सभी सहयोगियों को जवाब देना होगा। क्या कारण हैं और उन्हें ऐसा कहने की हिम्मत कैसे हुई।’’

पीएम मोदी ने कहा कि वह तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू और राकांपा प्रमुख शरद पवार से भी पूछना चाहते हैं कि क्या वे उमर अब्दुल्ला के बयान से सहमत हैं। उन्होंने कहा, ”मैं बंगाल की दीदी से पूछना चाहता हूं जो काफी शोर मचाती हैं, क्या आप इससे सहमत हैं? जनता को जवाब दीजिये। नेशनल कॉन्फ्रेंस आपकी दोस्त है।”

Narendra Modi

उन्होंने कहा कि दो तीन दिन पहले नेशनल कॉन्फ्रेंस के एक नेता ने पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाया था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा राष्ट्र विरोधी ताकतों को मजबूती देने की कोशिश की। इसी मानसिकता की वजह से ये लोग सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाते हैं। वे रक्षा बलों की बहादुरी का अपमान करते हैं। उन्होंने कहा, “जब तक मोदी यहां है, आप अपनी साजिशों में कामयाब नहीं होंगे। मोदी देश के दुश्मनों और देश के लोगों के बीच दीवार बनकर खड़ा है…एक मजबूत देश के लिये हमें एक मजबूत सरकार की जरूरत है न कि असहाय सरकार की।”

क्या कहा था उमर अब्दुल्ला ने?

बीजेपी नेताओं के अनुच्छेद 370 खत्म करने का पक्ष लेने पर पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल्ला ने कहा था कि यह कोई आम चुनाव नहीं है, आज जम्मू-कश्मीर की पहचान खत्म करने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि हम शर्तों के साथ भारत के साथ आए तो हम कोई यूपी और बिहार नहीं है। हमारा संविधान अलग होगा, हमारे धंधे अलग होंगे, साथ ही अलग प्रधानमंत्री की भी मांग हुई थी, जिसके हम वापस लेकर आएंगे। उमर ने अपने बयान में अमित शाह और अरुण जेटली के बयान का जिक्र करते हुए कहा कि यह लोग कश्मीर ने 35A हटाने की कोशिश कर रहे हैं।