कैप्टन और सिद्धू के बीच तकरार जारी, अभी तक सिद्धू ने नहीं संभाला नया विभाग

दरअसल सिद्धू के पास पहले शहरी विकास मंत्रालय था, बाद में कैप्टन से तकरार के चलते सिद्धू को बिजली विभाग का मंत्री बना दिया गया। जिसके बाद से नाराजगी ऐसी बढ़ी कि सिद्दू ने अभी तक बिजली विभाग का चार्ज नहीं लिया है।

Avatar Written by: June 19, 2019 2:00 pm

चंढीगढ़। पंजाब में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और भाजपा से कांग्रेस में गए नवजोत सिंह सिद्धू के बीच तकरार अब बड़ा रूप लेती दिखाई दे रही है। दोनो के बीच चल रहा गतिरोध अभी भी खत्म नहीं हो रहा है। कुछ दिन पहले सिद्धू का मंत्रालय बदला गया था, जिससे वो नाराज चल रहे थे।

Captain Amarinder Singh and Navjot Singh Siddhu

दरअसल सिद्धू के पास पहले शहरी विकास मंत्रालय था, बाद में कैप्टन से तकरार के चलते सिद्धू को बिजली विभाग का मंत्री बना दिया गया। जिसके बाद से नाराजगी ऐसी बढ़ी कि सिद्दू ने अभी तक बिजली विभाग का चार्ज नहीं लिया है और विभाग बदलने को अपनी प्रतिष्ठा का मुद्दा बना लिया है। सिद्धू के चार्ज ना लेने से बिजली विभाग के कई अहम प्रोजेक्ट लंबित हैं। सूत्रों का कहना है कि मंत्री स्तर पर फाइलें तैयार हैं, लेकिन समझ में नहीं आ रहा है कि यह किसे भेजी जाएं।

उधर सिद्धू ने अपनी नाराजगी के चलते किसी भी फाइल को लेने से मना कर दिया है। लेकिन सीएमओ के सूत्रों का कहना है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह सिद्धू को अब और कोई महकमा नहीं देना चाहते और उन्होंने इस बात के भी संकेत दे दिए हैं कि अगर मंत्री स्तर पर कोई बड़ी फाइल लटकी हैं, तो वह उन्हें भेज दी जाएं।

विभागीय अधिकारियों का कहना है कि पावर विभाग में इस समय कई अहम प्रोजेक्ट लंबित हैं, जिनमें से शाहपुर कंडी प्रोजेक्ट सबसे महत्वपूर्ण है। इसके अलावा प्राइवेट कंपनियों से ली जा रही बिजली को लेकर भी कई ऐसी फाइलें होती हैं, जिन पर मंत्री ने फैसला लेना होता है। विभाग के अफसर चाहते हैं कि सिद्धू पावर विभाग ज्वाइन न करें और यह महकमा खुद मुख्यमंत्री ही संभालें।

Support Newsroompost
Support Newsroompost