फिर से टली निर्भया के दोषियों की फांसी, अगले आदेश तक लगी रोक

एक बार फिर से निर्भया केस में दोषियों की फांसी टल गई है। पहले इस मामले में पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की फांसी पर डेथ वारंट जारी किया था।

Written by: January 31, 2020 5:42 pm

नई दिल्ली। एक बार फिर से निर्भया केस में दोषियों की फांसी टल गई है। इन दोषियों को कल(1 फरवरी को) फांसी होनी थी। इस मामले में इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की फांसी पर डेथ वारंट जारी किया था। जिसमें फांसी के लिए 1 फरवरी की तारीख तय की गई थी। अब इन दोषियों को कोर्ट के अगले आदेश तक फांसी नहीं होगी।

Nirbhaya mother

दूसरी बार टली फांसी

आपको बता दें कि निर्भया के चारों दोषियों को कल शनिवार सुबह 1 बजे फांसी पर नहीं लटकाया जाएगा। पटियाला हाउस कोर्ट ने दोषियों की फांसी टाल दी है। कोर्ट ने अगले आदेश तक फांसी पर रोक लगा दी है। ये दूसरी बार है जब दोषियों की फांसी टाली गई है। इससे पहले गुनहगारों को 22 जनवरी सुबह 7 बजे फांसी देने की तारीख तय हुई थी।

सुनिए निर्भया की मां ने क्या कहा-

इस मामले में गुरुवार को विनय की ओर से पटियाला हाउस कोर्ट में दाखिल याचिका में राष्ट्रपति के पास दया याचिका लंबित होने के आधार पर फांसी पर रोक लगाने की अपील की गई थी।

Akshay Pil

बता दें कि निर्भया गैंगरेप और मर्डर केस में फांसी की सजा पाने वाले दोषियों की फांसी की सजा पर कोर्ट ने शुक्रवार को अगले आदेश तक फिलहाल रोक लगा दिया है। फांसी पर रोक लगाने वाली याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हुई।

निर्भया के गुनहगारों ने अपनी तरफ से फांसी की सजा को टालने के लिए हरसंभव कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल किया है और इसी के चलते गुनहगार विनय ने फांसी पर रोक लगाने की मांग की थी। वहीं इसी मामले में एक और दोषी पवन के नाबालिग होने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल की गई थी जिसे कोर्ट ने खारिज कर दी थी।

दोषियों के वकील ने कोर्ट में कहा..

वहीं दोषी अक्षय ठाकुर, विनय शर्मा और पवन गुप्ता के वकील एपी सिंह ने कोर्ट से कहा कि ये दोषी आतंकवादी नहीं हैं। वकील ने जेल मैनुअल के नियम 836 का हवाला दिया जिसमें कहा गया है कि ऐसे मामले में जहां एक से अधिक लोगों को मौत की सजा दी गई है, वहां दोषियों को तब तक फांसी की सजा नहीं दी गई है जब तक उन्होंने अपने कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल ना कर लिया हो।

tihar Jail Tihad Jail

तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने कहा…

वहीं तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने दिल्ली की अदालत को बताया कि केवल एक दोषी की ही दया याचिका लंबित है, अन्य को फांसी दी जा सकती है। वहीं दोषियों के वकील ने दिल्ली की अदालत को बताया कि जब एक दोषी की याचिका लंबित है तो नियमों के अनुसार अन्यों को भी फांसी नहीं दी सकती।