निर्भया केस : जारी हुआ नया डेथ वारंट, 3 मार्च को होगी दोषियों को फांसी

बता दें कि सोमवार को निर्भया के दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट जारी करने की दिल्ली सरकार, तिहाड़ जेल प्रशासन और निर्भया के माता-पिता की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हुई।

Written by: February 17, 2020 4:17 pm

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप और हत्या मामले के दोषियों को फांसी होने के लिए नया डेथ वारंट जारी कर दिया गया है। अब दोषियों को 3 मार्च के दिन सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी। बता दें कि इस मामले में पटियाला हाउस कोर्ट ने एक घंटे की सुनवाई के बाद नया डेथ वारंट जारी किया है। गौरतलब है कि निर्भया केस में तीन बार दोषियों का डेथ वारंथ जारी हो चुका है।

Nirbhaya case

पटियाला हाउस कोर्ट में हुई सुनवाई

बता दें कि सोमवार को निर्भया के दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट जारी करने की दिल्ली सरकार, तिहाड़ जेल प्रशासन और निर्भया के माता-पिता की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हुई।

patiala house court

3 दोषियों अक्षय, विनय और मुकेश की दया याचिका खारिज हो चुकी है

नया डेथ वारंट जारी होने से पहले ठीक 2 बजे शुरू हुई सुनवाई के दौरान सरकारी वकील ने कहा कि 3 दोषियों अक्षय, विनय और मुकेश की दया याचिका खारिज हो चुकी है। एक दोषी पवन की ओर से इस मामले में दया याचिका और क्यूरेटिव पिटिशन दाखिल होनी बाकी है।

सुनवाई के दौरान सरकारी वकील ने कहा..

सरकारी वकील ने कहा कि हाइकोर्ट की तरफ से दी गई एक सप्ताह की मियाद भी 11 फरवरी को समाप्त हो चुकी है। उन्होंने दलील दी कि फिलहाल किसी भी दोषी की कोई भी याचिका किसी भी कोर्ट में लंबित नहीं है, इसलिए नया डेथ वारंट जारी किया जा सकता है।

Asha Devi Nirabhya Case

क्या बोलीं निर्भया की मां

नए डेथ वारंट को लेकर निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि, “मैं बहुत खुश नहीं हूं क्योंकि यह तीसरी बार है जब डेथ वारंट जारी किया गया है। हमने बहुत संघर्ष किया है, संतुष्ट हूं कि आखिरकार डेथ वारंट जारी किया गया है। मुझे उम्मीद है कि दोषियों को 3 मार्च को ही फांसी दी जाएगी।

Seema Kushwaha Nirabha Case Advocate

वकील सीमा कुशवाहा ने कहा

निर्भया मामले में पक्ष रखने वाली वकील सीमा कुशवाहा ने कहा कि, “निर्भया के साथ देश की और बेटियां जो न्याय के इंतजार में हैं, उनको भी उम्मीद जगेगी देश की न्याय व्यवस्था पर। उनको भी न्याय मिल सकता है अगर निर्भया को न्याय मिल सकता है।”

AP Singh Nirbhaya Case

दोषियों के वकील ए.पी. सिंह ने कहा

2012 गैंगरेप के दोषियों के वकील ए.पी. सिंह ने डेथ वारंट की नई तारीख पर मीडिया से कहा है कि, “अभी बहुत विकल्प बाकी है। ये आप लोगों के द्वारा क्रिएट किया राजनीतिक दबाव है। मानवाधिकार के बहुत से लोग फांसी का विरोध कर रहे हैं। क्योंकि फांसी की सजा संविधान, आर्टिकल 21, महात्मा गांधी के सिद्धांतों और प्राकृतिक अधिकारों के खिलाफ है।”

इससे पहले भी जारी हो चुका है डेथ वारंट

इससे पहले 7 जनवरी को कोर्ट ने चारों दोषियों को 22 जनवरी को फांसी देने का आदेश दिया था। उसके बाद 17 जनवरी को पटियाला हाउस कोर्ट ने नया डेथ वारंड जारी किया था। इसके तहत निर्भया के चारों दोषियों पवन गुप्ता, विनय शर्मा, मुकेश और अक्षय सिंह को 1 फरवरी की सुबह छह बजे फांसी होनी थी।

Nirbhaya Rape Case

क्या था मामला

16 दिसंबर, 2012 की रात को साउथ दिल्ली में एक चलती बस में एक मेडिकल स्टूडेंट के साथ गैंगरेप किया गया था। जिसके बाद इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। पुलिस ने मामले में मुकेश, विनय, अक्षय कुमार सिंह, पवन गुप्ता, राम सिंह और एक नाबालिग को आरोपी बनाया था।