फांसी टलवाने के लिए चुनाव आयोग पहुंच गए निर्भया के गुनाहगार, आम आदमी पार्टी के मंत्री का लिया सहारा

निर्भया के गुनाहगार फांसी टलवाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। इसी सिलसिले में अब इन गुनाहगारों ने एक नया तरीका निकाला है। निर्भया के दोषी विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने विनय की दया याचिका खारिज करने पर सवाल उठाते हुए याचिका दायर की है।

Written by: February 20, 2020 1:52 pm

नई दिल्ली। निर्भया के गुनाहगार फांसी टलवाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। इसी सिलसिले में अब इन गुनाहगारों ने एक नया तरीका निकाला है। निर्भया के दोषी विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने विनय की दया याचिका खारिज करने पर सवाल उठाते हुए याचिका दायर की है। उन्होंने ये याचिका चुनाव आयोग मे दाखिल की है।

Nirbhaya Accused

इस अर्जी में कहा गया है कि सत्येन्द्र जैन ने जब राष्ट्रपति से विनय शर्मा की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की तब वे मंत्री नहीं थे क्योंकि दिल्ली में विधानसभा चुनाव के चलते आचार संहिता लागू थी। वे उस समय विधायक भी नहीं थे। उनका हस्ताक्षर भी व्हाट्सएप के द्वारा भेजा गया था। ऐसे में विनय की दया याचिका खारिज करना असंवैधानिक है।

satyendra-jain

निर्भया के दोषियों की फांसी को टालने के लिए दोषी के वकील ने यह नया पैंतरा चला है। पटियाला हाउस कोर्ट दोषी के खिलाफ 3 मार्च के लिए डेथ वारंट जारी कर चुका है। निर्भया के चार में तीन दोषियों के सभी कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं। सिर्फ पवन के पास ही क्यूरेटिव पिटीशन और दया याचिका का विकल्प बचा है।

AP Singh Nirbhaya Case

हालांकि दोषियों के वकील एपी सिंह का कहना है कि तीन मार्च को फिर से दोषियों की फांसी टल जाएगी। लेकिन इस बीच एक नया घटनाक्रम ये भी हुआ है कि तीसरा डेथ वारंट जारी होने के बाद से दोषियों के व्यवहार में बड़ा बदलाव आया है। वह छोटी-छोटी बात पर भी गुस्सा होने लगे हैं। सूत्रों के मुताबिक जेल में बंद निर्भया के चारों दोषियों के स्वभाव में इन दिनों आक्रामकता पहले से ज्यादा बढ़ गई है। इसी उत्तेजना में मंगलवार को विनय अचानक अपनी सेल की दीवार पर सिर पटकने लगा।