अब बाबरी ध्वंस के मामले में भी फैसले की घड़ी नजदीक, कई दिग्गज नेता हैं आरोपी

विवादित ढांचे को गिराए जाने के मामले की सुनवाई ने तेजी पकड़ ली है। उम्मीद की जा रही है कि इस पर भी जल्दी ही फैसला आ सकता है। यह मामला लखनऊ की एक विशेष सीबीआई अदालत में चल रहा है। इस मामले में बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी समेत कई दिग्गज नेता आरोपी हैं।

Written by: November 10, 2019 3:53 pm

नई दिल्ली। विवादित ढांचे को गिराए जाने के मामले की सुनवाई ने तेजी पकड़ ली है। उम्मीद की जा रही है कि इस पर भी जल्दी ही फैसला आ सकता है। यह मामला लखनऊ की एक विशेष सीबीआई अदालत में चल रहा है। इस मामले में बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी समेत कई दिग्गज नेता आरोपी हैं।

Ram Mandir Supreme Court

राम मंदिर की विवादित ज़मीन पर सुप्रीम कोर्ट के बड़े फैसले के बाद अब इस केस को लेकर गतिविधियां तेज हो गई हैं। उम्मीद की जा रही है कि इस मामले में अप्रैल 2020 तक फैसला आ सकता है। इस मामले में बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी, उमा भारती और मुरली मनोहर जोशी के खिलाफ सुनवाई 25 मई, 2017 को लखनऊ की इस विशेष अदालत में शुरू हुई थी।
ram mandir Babri Masjid Caseबाबरी विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने अभियोजन पक्ष द्वारा सबूत और गवाही पेश करने की आखिरी तारीख 24 दिसंबर तय की है। 29 सितंबर, 2019 को आरोप तय किए जाने के बाद बावजूद तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के खिलाफ गवाह नहीं लाने पर हाल ही में कोर्ट ने अभियोजन पक्ष को फटकार लगाई गई थी।

kalyan singh case babri masjid

कल्याण सिंह पर राजस्थान के राज्यपाल के रूप में कार्यकाल समाप्त होने के बाद सितंबर, 2019 में सुनवाई शुरू हुई। राज्यपाल के रूप में उन्हें कानूनी प्रक्रिया से छूट प्राप्त थी। वर्ष 1992 में छह दिसंबर को जब बाबरी मस्जिद गिराई गई थी, तब वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उच्चतम न्यायालय ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के बीजेपी नेताओं को बरी करने के फैसले को खारिज कर दिया था। इसके साथ ही उच्चतम न्यायालय ने 19 अप्रैल 2017 से निचली अदालत को दो साल में सुनवाई पूरी करने का आदेश दिया था। इसके बाद 25 मई, 2017 को लखनऊ की इस विशेष अदालत में सुनवाई शुरू हुई थी। 19 जुलाई 2019 को उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में नौ महीने में फैसला सुनाने के निर्देश दिए थे।

babri masjid case verdict

बाबरी विध्वंस मामले में बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी, अशोक सिंघल, विनय कटियार, उमा भारती, साध्वी ऋतंभरा, मुरली मनोहर जोशी, गिरिराज किशोर और विष्णु हरि डालमिया के खिलाफ नफरत भरे भाषण देने को लेकर मामला दर्ज है। उनके अलावा 5 अक्टूबर 1993 को सीबीआई ने 48 व्यक्तियों के खिलाफ समेकित आरोपपत्र दायर किया था। इनमे बाल साहब ठाकरे, कल्याण सिंह, मोरेश्वर सावे, चंपत राय बंसल, सतीश प्रधान, महंत अवैद्यनाथ, धरमदास, महंत नृत्य गोपाल दास, महामंडलेश्वर जगदीश मुनी, रामविलास वेदांती, वैकुंठ लाल शर्मा, परमहंस रामचंद्र दास और डॉ. सतीश चंद्र नागर जैसे बड़े नाम शामिल थे।