पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर का हुआ शिलान्यास

Avatar Written by: November 28, 2018 4:48 pm

नई दिल्ली। भारत के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को अपनी सीमा के करीब स्थित सिखों के पवित्र धार्मिक स्थल करतारपुर कॉरिडोर का शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू भी वहां पहुंचे। इसके अलावा केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और हरसिमरत कौर बादल अटारी-वाघा बॉर्डर से इस कार्यक्रम में शामिल होने पाकिस्तान पहुंचे।

Kartarpur Corridor

इस मौके पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि मैंने जो सिख समुदाय में खुशी देखी वो अगर मैं मुसलमान को समझाऊं कि जैसे मुस्लिम मदीना से 4 किमो दूर खड़े हैं और वो उसपार जा नहीं पाए। लेकिन अब ये सपना पूरा हुआ है, इसके लिए हम लगातार काम कर रहे हैं। अगले साल जब आप यहां आएंगे तो आपको खुशी होगी।

इमरान ने कहा कि मुझे इनका क्रिकेट और कमेंट्री याद है, लेकिन वो सूफी कलाम में इतने महारथी हैं वो जानकार काफी हैरान हूं। उन्होंने कहा कि मैंने 21 साल क्रिकेट खेली और 22 साल सियासत की। क्रिकेट के समय में मैं दो तरह के खिलाड़ियों से मिला, एक वो था जो हमेशा मैदान पर हारने से डरता था इसलिए वो कोई रिस्क नहीं लेता था और वो दूसरा खिलाड़ी हमेशा जीतने की सोचता था, हारने से नहीं डरता था। और हमेशा दूसरा खिलाड़ी ही चैंपियन बनता था, हारने से डरने वाला खिलाड़ी कभी बड़ा नहीं बनता।Imran Khan

हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि यह मौका बहुत खास है। कहा यहां मेरा न कोई रिश्तेदार है न कोई संपर्क वाला, मगर बाबा नानक का बुलावा मिला है और आज यहां नतमस्तक होने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि यह बाबा नानक की धरती पर नया इतिहास लिखा जा रहा है। इस कॉरीडोर का महत्व आप किसी सिख से पूछिए तो हकीकत का पता चलेगा।

Harsimrat Kaur Badal

उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी चर्चा की और कॉरीडोर के निर्माण की मंजूरी देने के लिए शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि गुरुनानक जी ने दोनों देशों के बीच कड़वाहट को खत्म करने का यह मौका दिया है। उन्होंने कहा करतार का मतलब ईश्वर होता है और गुरुनानक देव जी ने एक इसी जगह का नाम करतारपुर रखा। गुरु साहब ने यहां कीरत करो, नाम जपो, वंड छको (काम करो, प्रभु का नाम जपो व बांटकर खाओ) का संदेश दिया। हरसिमरत ने कहा बर्लिन की दीवार गिर सकती है तो भारत पाकिस्तान की दोस्ती क्यों नहीं हो सकती।

शिलान्यास के बाद नवजोत सिंह काफी जोश में नजर आए और उन्होंने इस मौके पर कहा कि मैं यहां नानक साहब का पैगाम लेकर आया हूं। इसी बीच उन्होंने एकबार फिर से इमरान खान को धन्यवाद कहते-कहते दिलदार भी कहा। सिद्धू ने इमरान खान की तारीफ के पुल बांधे और कहा कि इस ऐतिहासिक कॉरिडोर के बारे में जब भी लिखा जाएगा तो पहले पन्ने पर इमरान खान का नाम लिखा जाएगा।

Navjot Singh Sidhuइस मौके पर सिद्धू ने एक कविता पाठ भी किया। साथ ही सिद्धू ने कहा कि हंस और बगुला सरोवर में एक साथ रहते हैं लेकिन हंस मोती ढूंढता है लेकिन बगुला मछली। वह बोले सब कुछ सोच पर निर्भर करता है। करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास कार्यक्रम में नवजोत सिद्धू ने पाक पीएम इमरान खान को फिर फरिश्ता बताया।

Support Newsroompost
Support Newsroompost