newsroompost
  • youtube
  • facebook
  • twitter

Parliament Session From Today: आज से संसद का सत्र, लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव, नीट और नेट परीक्षा में कथित गड़बड़ी पर इस तारीख से विपक्ष का हंगामा तय

Parliament Session From Today: नई चुनी गई लोकसभा का पहला सत्र आज से है। जबकि, 27 जून से राज्यसभा का सत्र शुरू होगा। दोनों ही सदन 3 जुलाई तक चलेंगे। इस दौरान 24 और 25 जून को लोकसभा में नए सदस्यों का शपथग्रहण होना है। 26 जून को लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा।

नई दिल्ली। संसद में 26 जून से हंगामे के पूरे आसार दिख रहे हैं। नई चुनी गई लोकसभा का पहला सत्र आज से है। जबकि, 27 जून से राज्यसभा का सत्र शुरू होगा। दोनों ही सदन 3 जुलाई तक चलेंगे। इस दौरान 24 और 25 जून को लोकसभा में नए सदस्यों का शपथग्रहण होना है। 26 जून को लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा। इस मुद्दे पर सत्तारूढ़ एनडीए और विपक्ष के बीच खींचतान और हंगामा दिख सकता है। वहीं, 27 जून को राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद फिर लोकसभा और राज्यसभा में हंगामा होने के आसार हैं।

नीट और यूजीसी-नेट परीक्षा में कथित गड़बड़ी के कारण संसद में हंगामा होने के आसार हैं। विपक्ष पहले ही कह चुका है कि वो इस मसले को संसद में उठाने वाला है। मोदी सरकार ने हालांकि नीट और यूजीसी-नेट परीक्षा में कथित गड़बड़ी पर बड़ा एक्शन लिया है, लेकिन कांग्रेस समेत विपक्षी दलों का आरोप है कि बीजेपी की सरकार में कई बार पेपर लीक होने से युवाओं का भविष्य बर्बाद हो रहा है। नीट और यूजीसी-नेट के मुद्दे को उठाकर विपक्ष ने मोदी सरकार पर हमलावर तेवर बना ही रखे हैं। इसके अलावा विपक्ष ये भी चाहता है कि लोकसभा में उपाध्यक्ष उसका बनाया जाए, जबकि खबर ये है कि लोकसभा अध्यक्ष बीजेपी का होगा और उपाध्यक्ष का पद एनडीए के दूसरे सबसे बड़े घटक टीडीपी को दिया जा सकता है। इस मसले पर भी हंगामे के पूरे आसार दिख रहे हैं।

लोकसभा में बीजेपी के पास 240 सांसद हैं। टीडीपी के पास 16 और जेडीयू के 12 सांसद हैं। इसके अलावा एनडीए के अन्य घटक दलों को मिलाकर लोकसभा में सत्ता पक्ष के 292 सांसद होते हैं। वहीं, विपक्ष के पास 235 सांसद हैं। इस तरह फिलहाल विपक्ष लोकसभा में कमजोर है। अब सबकी नजर इस पर है कि नीट और नेट परीक्षाओं के मुद्दे पर विपक्ष के आरोपों का मोदी सरकार की तरफ से किस तरह जवाब दिया जाता है। खुद पीएम नरेंद्र मोदी भी राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान लोकसभा और राज्यसभा में अपनी बात रखेंगे।