Connect with us

देश

Mann Ki Baat: मन की बात में PM मोदी ने इसलिए किया पाक पर सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र, चंडीगढ़ एयरपोर्ट को लेकर लिया ये फैसला

Mann Ki Baat: इसके अलावा उन्होंने चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर करने का निर्णय लिया है। पीएम मोदी ने कहा कि 28 सितंबर को अमृत महोत्सव का विशेष दिन आ रहा है। इस दिन हम भारत मां के वीर सपूत भगत सिंह जी की जयंती मनाएंगे। भगत सिंह जी की जयंती से ठीक पहले उन्हें श्रद्धाजंलि स्वरूप एक महत्वपूर्ण निर्णय किया है। ये तय किया है कि चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम अब शहीद भगत सिंह के नाम पर रखा जाएगा।

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को एक बार फिर से ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संंबोधित किया। बता दें कि यह उनके मासिक रेडियो कार्यक्रम का 93वां एपिसोड रहा। इस दौरान पीएम मोदी ने कई अहम फैसले को लेकर कई जानकारी भी देशवासियों के साथ साझा की। पीएम मोदी ने मन की बात प्रोग्राम में स्वतंत्र सेनानियों को भी याद किया। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों को सर्जिकल स्‍ट्राइक की याद भी दिलाई। पीएम मोदी ने कहा, ”मेरे प्यारे देशवासियों 28 सितंबर को जश्न मनाने की एक और वजह भी है। जानते क्या है, मैं सिर्फ दो शब्द कहूंगा, लेकिन  मुझे पता है कि आपका जोश 4 गुना ज्यादा बढ़ जाएगा। ये 2 शब्द है सर्जिकल स्ट्राइक, बढ़ गया ना आपका जोश। हमारे देश में अमृत महोत्सव का अभियान जो चल रहा है। उनके हम पूरे मनो योग से सेलिब्रेट करें। अपनी खुशियों को सबके साथ शेयर करें।”

इसके अलावा उन्होंने चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर करने का निर्णय लिया है। पीएम मोदी ने कहा कि 28 सितंबर को अमृत महोत्सव का विशेष दिन आ रहा है। इस दिन हम भारत मां के वीर सपूत भगत सिंह जी की जयंती मनाएंगे। भगत सिंह जी की जयंती से ठीक पहले उन्हें श्रद्धाजंलि स्वरूप एक महत्वपूर्ण निर्णय किया है। ये तय किया है कि चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम अब शहीद भगत सिंह के नाम पर रखा जाएगा। इसके लिए लंबे समय से प्रतीक्षा की जा रही थी। मैं चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा और देश के सभी लोगों को इस निर्णय की बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

आगे पीएम मोदी ने कहा, हमें अपने स्वतंत्र सेनानियों से प्रेरणा लेनी चाहिए। उनके आर्दशों पर चलते हुए उनके सपनों का भारत बनाए। यही हमारी उनके प्रति श्रद्धाजंलि होती है। शहीदों के स्मारक उनके नाम पर स्थानों और संस्थानों के नाम हमें कर्तव्य के लिए प्रेरणा देते है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement