अयोध्या फैसले पर बोले पीएम मोदी- ‘भारत भक्ति’ की भावना मजबूत करने का समय

पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा, ‘देश के सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या पर अपना फैसला सुना दिया है। इस फैसले को किसी की हार या जीत के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। रामभक्ति हो या रहीमभक्ति, ये समय हम सभी के लिए भारतभक्ति की भावना को सशक्त करने का है। देशवासियों से मेरी अपील है कि शांति, सद्भाव और एकता बनाए रखें।’

Written by: November 9, 2019 1:25 pm

नई दिल्ली। अयोध्या विवाद मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने 2.77 एकड़ की विवादित भूमि रामलला विराजमान को सौंप दी है। वहीं मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही 5 एकड़ भूमि दी जाएगी। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा शनिवार को फैसला सुनाए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी देशवासियों से ‘भारत भक्ति’ की भावना प्रदर्शित करने का आवाह्न किया है।  पीएम मोदी ने सिलसिलेवार कई ट्वीट किए।

Narendra Modi

पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा, ‘देश के सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या पर अपना फैसला सुना दिया है। इस फैसले को किसी की हार या जीत के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। रामभक्ति हो या रहीमभक्ति, ये समय हम सभी के लिए भारतभक्ति की भावना को सशक्त करने का है। देशवासियों से मेरी अपील है कि शांति, सद्भाव और एकता बनाए रखें।’

वहीं दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला कई वजहों से महत्वपूर्ण है: यह बताता है कि किसी विवाद को सुलझाने में कानूनी प्रक्रिया का पालन कितना अहम है। हर पक्ष को अपनी-अपनी दलील रखने के लिए पर्याप्त समय और अवसर दिया गया। न्याय के मंदिर ने दशकों पुराने मामले का सौहार्दपूर्ण तरीके से समाधान कर दिया।’

अंतिम ट्वीट में पीएम मोदी ने लिखा, ‘यह फैसला न्यायिक प्रक्रियाओं में जन सामान्य के विश्वास को और मजबूत करेगा। हमारे देश की हजारों साल पुरानी भाईचारे की भावना के अनुरूप हम 130 करोड़ भारतीयों को शांति और संयम का परिचय देना है। भारत के शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की अंतर्निहित भावना का परिचय देना है।’

Support Newsroompost
Support Newsroompost