लातूर में भाजपा-शिवसेना की रैली, मंच पर साथ-साथ नजर आए पीएम मोदी और उद्धव ठाकरे

मोदी कर्नाटक और तमिलनाडु में रैली को संबोधित करने पहुंचेंगे। लातूर में चुनाव मैदान में 10 उम्मीदवार हैं लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस-भाजपा के बीच में है।

Written by: April 9, 2019 11:17 am

नई दिल्ली। पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन है। वहीं दूसरी ओर अलग-अलग मंचों से एक दूसरे को कोसने के बाद लोकसभा चुनाव आते ही एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे लातूर में एक मंच पर नजर आए। ऐसा तीन साल बाद हुआ जब दोनों नेताओं ने एक मंच साझा किया।

बता दें, इसके बाद मोदी कर्नाटक और तमिलनाडु में रैली को संबोधित करने पहुंचेंगे। लातूर में चुनाव मैदान में 10 उम्मीदवार हैं लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस-भाजपा के बीच में है। आपको बताते चलें कि इसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उद्धव ठाकरे ने दिसंबर 2016 में मंच साझा किया था। उस वक्त अरब सागर के तट पर छत्रपति शिवाजी महाराज के स्मारक की आधारशिला रखने के लिए दोनों नेता पहुंचे थे।

हालांकि, महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के गठबंधन के बाद दोनों पार्टियों के नेताओं के सुर बदल गए हैं, लेकिन इसके पहले तीन साल तक दोनों एक दूसरे को कोसने से नहीं चूक रहे थे। यहां तक कि शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने तो शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर तीखी टिप्पणियां भी की थीं।

वहीं भाजपा प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने बताया कि मोदी और उद्धव लातूर व उस्मानाबाद से गठबंधन के उम्मीदवारों के समर्थन में लातूर के औसा में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इन जिलों में मतदान 18 अप्रैल को होगा। महाराष्‍ट्र में अक्‍टूबर 2014 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद दोनों पार्टियों के रिश्‍तों में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिले। कई सार्वजनिक मंचों पर कई शिवसेना नेता और खुद उद्धव ठाकरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करते नजर आए। इसके बाद से ऐसा लगने लगा था कि अब भाजपा और शिवसेना की राह हमेशा के लिए जुदा हो गई है।

यही नहीं, लातूर और उस्मानाबाद कांग्रेस का गढ़ रहा है। जिसे जीतने के लिए बीजेपी अपनी पूरी ताकत झोंकना चाहती है। वैसे तो 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के चलते लातूर लोकसभा सीट से बीजेपी सुनील गायकवाड़ चुनाव जीते थे। लेकिन इस बार उन्हें टिकट नहीं मिला। उनकी जगह लातूर सीट से सुधाकर तुकाराम श्रंगारे को चुनाव मैदान में उतारा है। उनका मुकाबला इस बार कांग्रेस ने कामंत मछिंद्र से है।

uddhav thakre Shivsena

तो वहीं 2014 में उस्मानाबाद से शिवसेना के रविंद्र गायकवाड़ सांसद चुने गए थे। हालांकि, इस बार पार्टी ने उनका टिकट काट दिया है। उस्‍मानाबाद सीट से शिवसेना ने ओमरोज निंबालकर को उम्‍मीदवार घोषित गया है तो वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने रणजगीत सिंह पद्मसिंह पाटिल को टिकट दिया है।

शिवसेना और भाजपा महाराष्‍ट्र में भाजपा और शिवसेना ने महाराष्ट्र में क्रमश: 25 और 23 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की है। हालांकि, प्रदेश में गठबंधन से पहले दोनों पार्टियों के बीच काफी उठापटक हुई। आखिरकार, दोनों पार्टियां साथ चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो गईं। राज्य में 48 लोकसभा सीटें हैं। महाराष्‍ट्र में लोकसभा चुनाव 4 चरणों में होने जा रहा है।