केजरीवाल पर बरसे PM मोदी, देश बदलने आए थे, खुद ही बदल गए, दिया नाकामपंथी मॉडल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में विपक्षी पार्टियों पर एक बार फिर बड़ा हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं भाग्यशाली हूं कि आपने मुझे आपकी सेवा करने का अवसर प्रदान किया। इससे पहले कि मैं आपको अपने काम का हिसाब दूं, मैं दिल्ली के हर व्यक्ति के प्रति अपना आभार प्रकट करना चाहूंगा।’ मैं बैरिकेडिंग देखता हूं और लोगों को आगे जाने से रोक दिया जाता है।

Written by: May 8, 2019 8:53 pm

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में विपक्षी पार्टियों पर एक बार फिर बड़ा हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं भाग्यशाली हूं कि आपने मुझे आपकी सेवा करने का अवसर प्रदान किया। इससे पहले कि मैं आपको अपने काम का हिसाब दूं, मैं दिल्ली के हर व्यक्ति के प्रति अपना आभार प्रकट करना चाहूंगा।’ मैं बैरिकेडिंग देखता हूं और लोगों को आगे जाने से रोक दिया जाता है। कुछ लोगों को मेरी वजह से अपने घरों तक पहुंचने में देर होगी।

पीएम मोदी ने कहा, ‘दिल्ली में पंजाब-हरियाणा का जोश है, तो पूर्वांचल की मिठास है, नॉर्थ ईस्ट का उत्साह है तो दक्षिण भारत की सौम्यता। ये मेरा सौभाग्य है कि आपने मुझे सेवा का अवसर दिया।’ पीएम ने कहा, ‘बुलेट प्रूफ दीवारों में रहना न मेरा शौक है और न ही मेरी आदत है। जब-जब मौका मिला है मैंने इस दीवार को साइड रखने की कोशिश भी की है। अक्सर दिल्ली मेट्रो में सफर करते हुए जब लोगों से घिर जाता हूं, तो वो मेरे लिए बहुत यादगार पल होते हैं।’

पीएम ने कहा, ‘जीएसटी ने देश में टैक्स का जाल खत्म किया है, GST को इस तरह डिजाइन किया गया है जिससे देश को इंस्पेक्टर राज से मुक्ति मिले। जो महंगाई देश के हर चुनाव मे सबसे बड़ा मुद्दा होती थी, वो आज कैसे नियंत्रण में है, विपक्ष के लोग चाहकर भी उस पर कुछ बोल नहीं पा रहे।’

केजरीवाल सरकार पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘देश बदलने आए थे, खुद ही बदल गए। नई व्यवस्था देने आए थे, खुद ही अव्यवस्था-अराजकता का दूसरा नाम बन गए। पहले अनाप-शनाप कहा, फिर माफी मांगी।’ पीएम ने केजरीवाल सरकार को नाकामपंथी मॉडल कहा। उन्होंने कहा, ‘भारत में चार अलग-अलग तरह की राजीतिक परंपराएं रही हैं, नामपंथी, वामपंथी, दाम और दमन पंथी और विकास पंथी। दिल्ली ने पांचवां मॉडल नाकामपंथी देखा। ये दिल्ली के विकास से जुड़े हर काम को ना कहते हैं और जो काम करने की कोशिश भी करते हैं, उसमें नाकाम रहते हैं।

मोदी ने कहा, ‘इन नाकामपंथियों ने भ्रष्टाचार के खिलाफ एक बड़े आंदोलन को नाकाम किया। देश के सामान्य मानवी की छवि को, आम आदमी की छवि को बदनाम किया। करोड़ों युवाओं के विश्वास और भरोसे को चकनाचूर किया।’

पीएम मोदी ने कहा, ‘कांग्रेस आजकल अचानक न्याय की बात करने लगी है। कांग्रेस को बताना पड़ेगा, कि 1984 के सिख दंगों में हुए अन्याय का हिसाब कौन देगा? कांग्रेस को बताना पड़ेगा कि सिख दंगों से जुड़ा होने का जिन पर आरोप है, उनको मुख्यमंत्री बनाना कौन सा न्याय है।’